भीषण गर्मी को देखते हुए परिंदों के लिए दाना-पानी से लेकर आराम तक के इंतजाम
Palamu News in Hindi

भीषण गर्मी को देखते हुए परिंदों के लिए दाना-पानी से लेकर आराम तक के इंतजाम
भीषण गर्मी को देखते हुए प्रशासन ने मेदिनीनगर शहर में पंक्षियों के लिए दाना-पानी के इंतजाम किये हैं.

मेदिनीनगर के सभी 35 वार्डों में पेड़ एवं अन्य चिन्हित स्थानों पर 105 पिंजरे (Birdcage) लटकाए गये हैं. इनमें परिंदों (Birds) के लिए दाना-पानी रखे गये हैं.

  • Share this:
पलामू. जिले में भीषण गर्मी (Scorching Heat) को देखते हुए प्रशासन ने बेजुबान पंक्षियों (Birds) के लिए भी दाना-पानी का इंतजाम करने की योजना बनाई है. इसकी शुरुआत मेदिनीनगर नगर निगम क्षेत्र से की गई. मेदिनीनगर शहर के सभी 35 वार्डों में तीन-तीन पिंजरे (Birdcage) रखे गये हैं, जिनमें पंक्षियों को दाना-पानी दिये जाएंगे. प्रशासन ने पिंजरा रखने के लिए वैसे जगहों को चिन्हित किया है, जहां ज्यादा संख्या में पंक्षियों का जमावड़ा होता है. उपायुक्त डॉ शांतनु अग्रहरि के निर्देश पर ये व्यवस्था की गई है.

भीषण गर्मी के चलते जिले में सूख चुके हैं ताल-तलैया

कोरोना लॉकडाउन के कारण पहले से ही शहर में पशु-पंक्षियों को खाना नहीं मिल रहा. ऊपर से 45 से 47 डिग्री तापमान वाली भीषण गर्मी में जिले के सभी ताल-तलैया सूख चुके हैं. ऐसे में परिदों को दाना-पानी की दिक्कत न हो, इसको ध्यान में रखते हुए उपायुक्त ने ये खास पहल की है. इस पहल को और बृहद रूप देने के लिए उन्होंने लोगों से आगे आने की अपील की है.



डीसी ने कहा कि गर्मी के दिनों में पंक्षियां ज्यादातर छायादार स्थान एवं दाना-पानी की तलाश में रहते हैं. इसलिए खुला पिंजरा रखने का आदेश दिया गया है. इसमें पंक्षियों के लिए दाना-पानी दिया जाएगा. जिससे इस गर्मी में उनकी जान बच सके. जिम्मेदार नागरिक के रूप में हमें पक्षियों के संरक्षण के बारे में ध्यान देना चाहिए. दाना-पानी देकर पंरिदों की प्राणरक्षा करनी चाहिए.



नगर निगम क्षेत्र में रखे गये 105 खुले पिंजरे

वार्ड सदस्यों की मदद से मेदिनीनगर के सभी 35 वार्डों में पेड़ एवं अन्य चिन्हित स्थानों पर 105 पिंजरे लटकाए गये हैं. इनमें परिंदों के लिए दाना-पानी भी रखे गये हैं. शहरवासी जिला प्रशासन की इस पहल की तारीफ कर रहे हैं. शहरवासियों का कहना है कि कोरोना संकट में प्रशासन एक ओर गरीबों-असहायों की मदद कर रहा है, तो दूसरी ओर उसे परिंदों की भी चिंता है.

रिपोर्ट- नीलकमल

ये भी पढ़ें- मंदिर बंद है तो क्या हुआ, यहां कर सकते हैं बाबा बासुकीनाथ के भव्य श्रृंगार रूप का दर्शन

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading