धारा-144 उल्लंघन मामले में पलामू कोर्ट में पेश हुए बाबूलाल, मिली जमानत

बाबूलाल मरांडी को मिली जमानत
बाबूलाल मरांडी को मिली जमानत

29 अप्रैल 2011 को पलामू के तत्कालीन अपर समाहर्ता (विधि व्यवस्था) मुकूल पांडेय ने बाबूलाल मरांडी के खिलाफ शहर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी.

  • Share this:
पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी को पलामू कोर्ट से जमानत मिल गई है. इससे पहले धारा-144 उल्लंघन मामले में वह न्यायिक दंडाधिकारी (प्रथम श्रेणी) दीपक कुमार की अदालत में पेश हुए. कोर्ट में उनकी ओर से जमानत की अर्जी दाखिल की गई, जिसके बाद कोर्ट ने उन्हें बेल दे दिया.

दरअसल 29 अप्रैल 2011 को पलामू के तत्कालीन अपर समाहर्ता (विधि व्यवस्था) मुकूल पांडेय ने बाबूलाल मरांडी के खिलाफ शहर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी. इसमें आरोप लगाया गया कि बाबूलाल मरांडी ने धारा- 144 का उल्लंघन किया. दरअसल पूरा मामला 11 अप्रैल 2011 से जुड़ा हुआ है. उस दिन मेदिनीनगर शहर में अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया जा रहा था. सेवा सदन रोड इलाके में अतिक्रमण हटाया जा रहा था. उसी दौरान जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी उस इलाके में एक कार्यक्रम के सिलसिले में पहुंचे थे. उसी दौरान उन्होंने अतिक्रमण हटाओ अभियान के पीड़ितों से मुलाकात की थी. इसी को उनके खिलाफ सीआरपीसी की धारा-188 के तहत मामला दर्ज कराया गया था.

इस मामले में 6 फरवरी 2017 को बाबूलाल मरांडी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ था. इसके बाद 31 अगस्त 2017 को कुर्की की कार्रवाई करने का आदेश कोर्ट ने दिया. इस सिलसिले में मंगलवार को जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी अदालत में हाजिर हुए.



रिपोर्ट- नीलकमल
ये भी पढ़ें- पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के खिलाफ जारी हुआ कुर्की- जब्ती का वारंट

झारखंड महागठबंधन में सीट शेयरिंग को लेकर हफ्तेभर में सामने आएगा फॉर्मूला

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज