VIDEO : गैंगरेप पीड़िता और पति को मारकर पेड़ से लटकाया
Palamu News in Hindi

पलामू के लकड़मनवा जंगल में पति-पत्नी का शव पेड़ से लटका मिला. मृतकों की शिनाख्त हरदाग निवासी अवधेश भुइयां और बिगनी देवी के रुप में हुई. अवधेश भुइयां मनातू के चुनकानावा गांव में अपने ससुराल में रहता था. दरअसल बिगनी देवी ने 11 मई को मनातू थाने में गैंगरेप का मामला दर्ज कराया था. इसके बाद से ही दोनों पति-पत्नी लापता थे. स्थानीय ग्रामीणों की सूचना पर नावा जयपुर और पाटन पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. पलामू पुलिस ने प्रथम दृष्ट्या पूरे मामले को हत्या करार दिया है.

  • Share this:
पलामू के लकड़मनवा जंगल में पति-पत्नी का शव पेड़ से लटका मिला है. मृतकों की शिनाख्त हरदाग निवासी अवधेश भुइयां और बिगनी देवी के रुप में हुई. अवधेश भुइयां मनातू के चुनकानावा गांव में अपने ससुराल में रहता था. दरअसल बिगनी देवी ने 11 मई को मनातू थाने में गैंगरेप का मामला दर्ज कराया था. इसके बाद से ही दोनों पति-पत्नी लापता थे. स्थानीय ग्रामीणों की सूचना पर नावा जयपुर और पाटन पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. पलामू पुलिस ने प्रथम दृष्ट्या पूरे मामले को हत्या करार दिया है.

मृतक महिला गैंगरेप की शिकार थी-

मृतक महिला गैंगरेप की शिकार थी11 मई को मनातू थाने में 3 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराई थी.
दरअसल, नावाजयपुर थाना क्षेत्र के जंगल से मिले दंपति के शव मामले में मृतक महिला बिगनी देवी ने 11 मई को मनातू थाने में गैंगरेप का मामला दर्ज कराई थी. जिसमें राम आशीष सिंह, लक्ष्मण भुइयां व सिबल यादव का नाम दिया था, हालांकि प्राथमिकी के दूसरे दिन से ही पीड़िता और उसके पति गायब थे. हालांकि मनातू थाना पुलिस गैंग रेप के मामले में नामजद अभियुक्तों को गिरफ्तार कर पूछताछ भी कर रही है. जब की घटना जेपी दंपति का शव मिलने के बाद नावा जयपुर थाना पुलिस महुआ मनातू थाना पुलिस संयुक्त रूप से मामले में कार्रवाई करते हुए आने से लोगों को भी हिरासत में लिया है. पलामू एसपी इंद्रजीत माता की मानें तो मामले का जल्द खुलासा हो जाएगा और जांच में पाए गए दोषी आरोपियों को जेल भेजा जाएगा. फिलहाल पुलिस सभी से पूछताछ कर रही है.
मृतक महिला के द्वारा 11 मई को मामला दर्ज कराए जाने पर अगर पुलिस गंभीरता दिखाई होती-



पलामू में चर्चित दमपति का शव बरामद मामले में अगर मृतक महिला द्वारा 11 मई को मनातु थाने में गैंगरेप का मामला दर्ज कराया गया था. मामले में पुलिस गंभीरता दिखाई होती तो पीड़िता और उसके पति घर से गायब नहीं होते और उनकी लाश नहीं मिलती. समय रहते उसकी जांच की जाती तो तो शायद हत्यारे की गिरफ्तारी हो जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading