लाइव टीवी

केएन त्रिपाठी: पढ़ें एयरफोर्स से मंत्री बनने तक का सफर

News18 Jharkhand
Updated: November 22, 2019, 3:40 PM IST
केएन त्रिपाठी: पढ़ें एयरफोर्स से मंत्री बनने तक का सफर
पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी पहली बार 2009 में डालटनगंज सीट से विधायक बने थे

सियासत में आने से पहले केएन त्रिपाठी (KN Tripathi) एयरफोर्स में थे. सेना की नौकरी छोड़कर सियासत में आए और साल 2005 में कांग्रेस (Congress) के टिकट पर पहली बार डालटनगंज सीट पर चुनाव लड़े.

  • Share this:
पलामू. पूर्व मंत्री व कांग्रेस नेता कृष्णानंद त्रिपाठी उर्फ केएन त्रिपाठी (Krishna Nand Tripathi) एक बार फिर डालटनगंज विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े रहे हैं. सियासत में आने से पहले वो एयरफोर्स (Air force) में थे. सेना की नौकरी छोड़कर केएन त्रिपाठी सियासत में आए और साल 2005 में कांग्रेस के टिकट पर पहली बार डालटनगंज सीट पर चुनाव लड़े. लेकिन इंदर सिंह नामधारी (Inder Singh Namdhari) के हाथों उन्हें हार का सामना करना पड़ा. 2009 में फिर डालटनगंज सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर मैदान में उतरे और जीते. विधायक बनने के बाद उन्हें राज्य सरकार में ग्रामीण विकास मंत्री बनने का मौका मिला. इस दौरान इन्होंने डालटनगंज के लिए कई काम किये.

2014 विधानसभा चुनाव हार गए

2014 के विधानसभा चुनाव में केएन त्रिपाठी को हार मिली. जेवीएम प्रत्याशी आलोक चौरसिया से वो 5000 मतों से हार गए. पिता की मृत्यु के कारण सहानुभूति वोट की बदोलत आलोक चौरसिया डालटनगंज से विधायक बन गए. हालांकि विधायक बनने के बाद आलोक चौरसिया बीजेपी में शामिल हो गए. इस बार वो बीजेपी के टिकट पर केएन त्रिपाठी के सामने मैदान में हैं.

एयरफोर्स की नौकरी छोड़कर सियासत में आए

डालटनगंज के रेडमा काशी नगर मोहल्ले के रहने वाले केएन त्रिपाठी किसान परिवार से तालुक्क रखते हैं. उनका जन्म 3 अप्रैल 1972 को अपने ननिहाल बिश्रामपुर के तोलरा गांव में हुआ. प्रारंभिक पढ़ाई डालटनगंज के दसमेश मॉडल स्कूल और जिला स्कूल से मैट्रिक की परीक्षा पास की. डालटनगंज जीएलए कॉलेज से इंटरमीडिएट और ग्रेजुएशन किया. बाद में केएन त्रिपाठी वायु सेना में बहाल हो गये. बेंगलुरु और सूरतगढ़ में पोस्टिंग के बाद उन्होंने सेना की नौकरी छोड़ दी. और सियासत में आ गये.

2 अक्टूबर 2000 को गांधी जयंती के अवसर पर कृष्णानंद त्रिपाठी एक सभा में शामिल हुए और इसी सभा से उन्होंने सियासत की ओर कदम बढ़ा दिया. उनके पिता पंडित जग नारायण त्रिपाठी किसान थे. पूर्व मंत्री के दो बच्चे नम्रता व तेजश्विनी कृष्ण त्रिपाठी हैं.

(रिपोर्ट- नीलकमल)
Loading...

ये भी पढ़ें- चंद्रशेखर दुबे: गांव के मुखिया से विधायक बने, फिर सांसद और मंत्री भी रहे

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पलामू से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 3:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...