सिस्टम की पेचीदगियों में फंसा इलाज, दो साल से जिंदगी की जंग लड़ रहा है छात्र

माता-पिता के साथ राहुल

पिता प्रदीप जयसवाल का कहना है कि सरकार को एेसी व्यवस्था बनानी चाहिए कि पहले इलाज हो बाद में प्रमाण पत्र मांगी जाए, ताकि मरीज सही सलामत बच सके

  • Share this:
    पलामू में ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित 12वीं का एक छात्र सिस्टम की पेचीदगी के कारण जिंदगी और मौत के बीच फंसा हुआ है. परिवार के तमाम प्रयासों के बावजूद उसके इलाज के लिए सरकारी मदद नहीं मिल पायी है.

    डालटनगंज के हमीदगंज निवासी प्रदीप जायसवाल के पुत्र राहुल जयसवाल को साल 2016 से ब्रेन ट्यूमर है. गरीबी और लाचारी के कारण परिवार उसका इलाज नहीं करा पा रहा है. चंद रिश्तेदारों की मदद व घर के कुछ पैसे से राहुल का थोड़ा इलाज हुआ, मगर अब वह भी बंद हो गया है. परिवार ने बेटे की जिंदगी के लिए सरकारी मदद पाने की कोशिश की, तो वहां भी सिस्टम की पेचीदगियां आड़े आ गईं.

    दरअसल इस परिवार को सरकारी मदद सिर्फ इसलिए नहीं मिली, क्योंकि स्थानीय प्रमाण पत्र व आय प्रमाण पत्र बनाने में प्रखंडकर्मियों ने गड़बड़ी कर दी. आय प्रमाण पत्र में ज्यादा आमदनी दिखा दी गई. राहुल का कहना है कि उसके पिता गरीब हैं, जिसके कारण उसका इलाज नहीं हो पा रहा है. उसकी माने तो ब्रेन ट्यूमर के चलते उसकी पढ़ाई ठप हो गई है.

    नवोदय विद्यालय में पढ़ने वाला तेज तरार छात्र राहुल लाचार और बेबस नजर आ रहा है. पिता प्रदीप जयसवाल इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकान में काम करते हैं. जिससे मुश्किल से परिवार का गुजारा हो पाता है. प्रदीप जायसवाल का कहना है कि कई बार ब्लॉक ऑफिस और कचहरी का चक्कर काटकर प्रमाण पत्र बनवाया, लेकिन उसमें कई त्रुटियां निकल गईं. इसके कारण जिला स्वास्थ्य विभाग उनकी कोई मदद नहीं किया.

    प्रदीप जयसवाल का कहना है कि मेरे साथ जो हुआ, वैसा दूसरों के साथ नहीं होना चाहिए. सरकार को एेसी व्यवस्था बनानी चाहिए कि पहले इलाज हो बाद में प्रमाण पत्र मांगी जाए, ताकि मरीज सही सलामत बच सके. राहुल की मां का कहना है कि अगर सरकारी मदद अगर मिल जाए तो राहुल का अच्छे से इलाज हो सकता है.

    (नीलकमल की रिपोर्ट) 

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.