Home /News /jharkhand /

पलामू टाइगर रिजर्व में 21 महीने बाद ट्रैकरों को दिखा बाघ, न्यूज-18 की खबर पर लगी मुहर

पलामू टाइगर रिजर्व में 21 महीने बाद ट्रैकरों को दिखा बाघ, न्यूज-18 की खबर पर लगी मुहर

पलामू टाइगर रिजर्व में 21 महीने बाद बाघ होने के संकेत मिले हैं.

पलामू टाइगर रिजर्व में 21 महीने बाद बाघ होने के संकेत मिले हैं.

Palamu Tiger Reserve: पलामू टाइगर रिजर्व के बारेसांड़ रेंज में पैदल घूम रहे ट्रकरों ने एक बाघ को अपनी आंखों से देखा, हालांकि जल्दबाजी में होने के कारण कोई भी ट्रैकर उस लम्हे को अपने कैमरे में रिकॉर्ड नहीं कर पाया, क्योंकि बाघ और ट्रैक्टरों का टकराना एक संयोग की तरह था.

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट- संजय भारती

    पलामू. जब तमाम चर्चाओं में पलामू टाइगर रिजर्व के अंदर बाघ की मौजूदगी शून्य बतायी जा रही थी, तब आज से कई महीने पहले ही न्यूज़-18 ने गहन पड़ताल कर यह खबर दी थी कि अभी भी पलामू टाइगर रिजर्व में बाघ मौजूद हैं. शुक्रवार को न्यूज़-18 का वह दावा बिल्कुल सच साबित हो गया. पलामू टाइगर रिजर्व के बारेसांड़ रेंज में ट्रैकरों ने लगभग 21 महीने बाद अपनी आंखों से बाघ को जंगल में विचरण करते हुए देखा.

    नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी के द्वारा पिछली जनगणना में बाघों की संख्या पलामू टाइगर रिजर्व के अंदर शून्य बतायी गई थी. ऐसा इसलिए हुआ था क्योंकि कोई भी साइंटिफिक प्रमाण उस वक्त उपलब्ध नहीं थे. ऑथोरिटी केवल साइंटिफिक प्रमाण को ही मान्यता देती है. मगर साइंटिफिक प्रमाण न मिलने का मतलब यह नहीं था कि बाघों की मौजूदगी पलामू टाइगर रिजर्व के अंदर नहीं है. बाघों की मौजूदगी पलामू टाइगर रिजर्व में हमेशा से रही है.

    वन अधिकारियों के हवाले से और गहन जांच पड़ताल के बाद न्यूज़-18 ने पहले ही यह खबर लिख दी थी कि अभी भी पलामू टाइगर रिजर्व के अंदर लगभग तीन से चार बाघों की मौजूदगी है. मगर घना जंगल होने के कारण और ट्रैप कैमरे की संख्या कम होने के कारण बाघ जनगणना में ट्रैक नहीं हो पाए.

    पलामू टाइगर रिजर्व के बारेसांड़ रेंज में पैदल घूम रहे ट्रकरों ने एक बाघ को अपनी आंखों से देखा, हालांकि जल्दबाजी में होने के कारण कोई भी ट्रैकर उस लम्हे को अपने कैमरे में रिकॉर्ड नहीं कर पाया, क्योंकि बाघ और ट्रैक्टरों का टकराना एक संयोग की तरह था.

    पलामू टाइगर रिजर्व के डायरेक्टर कुमार आशुतोष ने बताया की टाइगर रिजर्व के ट्रैकरों ने बाघ के नर होने का दावा किया है. स्थानीय लोगों का यह भी दावा है कि बाघ ने एक बड़े भैंसे को अपना शिकार बनाया है. वन विभाग के अधिकारियों ने शिकार वाली जगह से सैंपल इकट्ठा कर जांच के लिए वाइल्डलाइफ इंस्टीट्यूट देहरादून भेज दिया है, जिसका रिपोर्ट दो-तीन दिनों में आने की उम्मीद है.

    Tags: Jharkhand news, Palamu news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर