होम /न्यूज /झारखंड /बदहाल शिक्षा: तीन कमरों में चलते हैं 2 स्कूल, जर्जर भवन बना खतरा, टीचर बोलीं- कोई नहीं सुनता

बदहाल शिक्षा: तीन कमरों में चलते हैं 2 स्कूल, जर्जर भवन बना खतरा, टीचर बोलीं- कोई नहीं सुनता

झारखंड सरकार की योजनाओं की पलामू जिले के सदर प्रखंड के हमीदगंज के दो स्‍कूल पोल खोल रहे हैं. दरअसल यहां तीन कमरे के एक ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट : शशिकांत ओझा

    पलामू. झारखंड सरकार की ओर से शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ करने के लिए कई तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं, लेकिन पलामू जिले के सदर प्रखंड के हमीदगंज में संचालित स्कूल की तस्वीर निराश करने वाली है. यहां तीन कमरे के एक भवन में दो-दो स्कूल चलाए जा रहे हैं. इसमें राजकीयकृत बालक मध्य विद्यालय और राजकीय बालिका प्राथमिक विद्यालय शामिल है. दोनों स्कूलों में एक-एक प्रधानाध्यापिका हैं. इनके अलावा और कोई शिक्षक नहीं है. भवन इतना जर्जर है कि बच्चे कक्षा से बाहर बरामदे में दरी पर बैठकर पढ़ते हैं.

    राजकीयकृत बालक मध्य विद्यालय, हमीदगंज में पहली कक्षा में 7, दूसरी में 21, तीसरी में 15, चौथी में 14, पांचवीं में 19, छठी में 20, सातवीं में 23 और आठवीं में 12 बच्चों का नामांकन है. जगह और शिक्षक के अभाव में सभी बच्चे एक साथ पढ़ाई करते हैं. वहीं, राजकीय बालिका प्राथमिक विद्यालय, हमीदगंज में पहली कक्षा में 7, दूसरी में 11, तीसरी में 14, चौथी में 6 और पांचवीं में 3 बच्चों का नामांकन हैं.

    स्कूल में नहीं है एक भी शौचालय
    इस विद्यालय का भवन 1972 में ही बनाया गया था. देखरेख में इतना जर्जर हो चुका है कि छत की सरिया बाहर निकल आयी है. आए दिन इसका मलवा गिरता रहता है. फर्श भी टूट रहा है. बैंच और डेस्क सालों से टूटे पड़े हैं. विद्यालय में एक भी शौचालय नहीं है. जबकि चारों तरफ गंदगी का अंबार है.

    विद्यालय में संसाधन की कमी
    राजकीय कन्या प्राथमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका नोसाबा खातून व राजकीय बालीका प्राथमिक विद्यालय प्रधानाध्यापिका नीलम कुमारी ने बताया कि विद्यालय में संसाधन का अभाव है. इस संबंध में कई बार विभाग को पत्र लिखा गया है, लेकिन इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है. भवन इतना जर्जर है कि हमेशा खतरा बना रहता है. सबसे ज्यादा दिक्कत शौचालय की है. यहां एक भी शौचालय नहीं है जिससे छात्र व छात्राओं के साथ-साथ हमें भी परेशानियों का समाना करना पड़ता है. वहीं, पलामू जिला शिक्षा अधिकारी मनोज कुमार ने कहा कि न्यूज़ 18 लोकल के माध्यम से उन्हें इस संबंध में सूचना मिली है. विद्यालय का निरीक्षण कर उचित कदम उठाया जाएगा.

    Tags: Jharkhand Government, Palamu news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें