होम /न्यूज /झारखंड /लेबर पेन होते ही पुरानी यादों से डर गई, बढ़ा ब्लडप्रेशर, आखिरकार नॉर्मल डिलेवरी से पैदा हुए 3 बच्चे

लेबर पेन होते ही पुरानी यादों से डर गई, बढ़ा ब्लडप्रेशर, आखिरकार नॉर्मल डिलेवरी से पैदा हुए 3 बच्चे

Labor Pain: तीन बच्चों की एकसाथ नॉर्मल डिलेवरी इसलिए भी खास है कि इससे पहले महिला दो बार प्रसव पीड़ा झेल चुकी है. पर दो ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : शशिकांत ओझा

पलामू. शायद इसे ही कहते हैं कि ईश्वर देता है तो छप्पर फाड़कर देता है. पलामू के एक निजी अस्पताल में महिला ने एक साथ तीन बच्चों को जन्म दिया है. बता दें कि इससे पहले भी इस महिला ने दो बार बच्चों को जन्म दिया था, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका था. पुरानी यादें महिला पर इस कदर हावी रही थीं कि इस बार लेबर पेन के साथ ही उनका ब्लडप्रेशर बहुत तेज हो गया. लेकिन कहते हैं न कि अंत भला तो सब भला. इस बार महिला को नॉर्मल डिलीवरी से 3 बच्चे हुए हैं, तीनों का वजन सामान्य से कम है. लेकिन जच्चा व बच्चे खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं. वजन कम होने के कारण बच्चों को एनआईसीयू में रखा गया है. घर में एक साथ तीन नए मेहमानों के आने से परिवार में खुशी की लहर है.

दरअसल, जिले के नावाजपुर थाना क्षेत्र दुआम्बा गांव के रहनेवाले प्रमोद भुइयां अपनी पत्नी प्रमिला देवी को मंगलवार को प्रसव पीड़ा के बाद नजदीकी पाटन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए थे. उनकी गंभीर स्थिति को देखते हुए पाटन सीएचसी के डॉक्टरों ने उन्हें डाल्टेनगंज रेफर कि दिया. तब परिजनों ने महिला को डालटगंज के मइया बाबू अस्पताल में भर्ती कराया. बुधवार को अस्पताल के डॉक्टर कादिर परवेज ने महिला की नॉर्मल डिलीवरी कराई.

चाइल्ड स्पेशलिस्ट की निगरानी में हैं बच्चे

डॉ. कादिर परवेज ने News18 Local को बताया कि महिला जब आई थी, उस समय उनका ब्लडप्रेशर काफी बढ़ा हुआ था. इस वजह से उनकी हालत बिगड़ गई थी. यहां महिला की नॉर्मल डिलीवरी कराई गई है. उसने तीन बच्चों को जन्म दिया है. हालांकि बच्चों का वजह सामान्य से कम है. लेकिन सभी खतरे से बाहर हैं. महिला का बीपी अब सामान्य है. उन्होंने बताया कि पहले बच्चे का वजह 1.0 किलो, दूसरे का 1.3 किलो व तीसरे का 0.9 किलो है. सभी बच्चों को एनआईसीयू में रखा गया है और चाइल्ड स्पेशलिस्ट की निगरानी में हैं.

इससे पहले भी दो बार हो चुका है प्रसव

वहीं, प्रमिला देवी की भाभी शांति देवी ने बताया कि घर में एक साथ तीन नए मेहमानों के आने से परिवार में खुशी की लहर है. रिश्तेदारों के बधाई संदेश लगातार मिल रहे हैं. उन्होंने बताया कि प्रमिला का इससे पहले भी दो बार प्रसव हुआ था. लेकिन एक भी बच्चा जीवित नहीं रहा. ईश्वर ने इस बार अनुकंपा की है और एक साथ तीन बच्चे हमारे घर भेज दिए.

Tags: Jharkhand news, Palamu news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें