इस कब्रिस्तान को ग्‍लोबल पर्यटन स्थल बनाना चाहता है चीन, जानिए क्‍यों

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 667 चीनी सैनिक संयुक्त बलों में शामिल थे. इनके शव झारखंड के रामगढ़ शहर में दफन हैं.

भाषा
Updated: January 14, 2018, 6:41 PM IST
इस कब्रिस्तान को ग्‍लोबल पर्यटन स्थल बनाना चाहता है चीन, जानिए क्‍यों
द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 667 चीनी सैनिक संयुक्त बलों में शामिल थे. इनके शव झारखंड के रामगढ़ शहर में दफन हैं.
भाषा
Updated: January 14, 2018, 6:41 PM IST
कोलकाता में चीन के वाणिज्य दूतावास के महावाणिज्य दूत एमए झानवू ने कहा है कि चीन चाहता है कि रामगढ़ में स्थित ऐतिहासिक कब्रिस्तान को वैश्विक पर्यटक स्थल के रूप में विकसित किया जाए. द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 667 चीनी सैनिक संयुक्त बलों में शामिल थे. इनके शव झारखंड के रामगढ़ शहर में दफन हैं.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि कोलकाता में चीनी वाणिज्य दूतावास का पांच सदस्यीय दल एमए झांगवू की अगुवाई में पिछले शुक्रवार को कब्रिस्तान गया था और उन्होंने शहीद चीनी सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की थी.

उन्होंने यहां प्रशासनिक अधिकारियों से कहा कि चीनी ने राज्य सरकार से ऐतिहासिक कब्रिस्तान को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का औपचारिक अनुरोध किया है.

रामगढ़ के उपायुक्त राजेश्वरी बी ने कहा चीन के महावाणिज्य दूत और उनके दल को शनिवार को आना था लेकिन वे निर्धारित कार्यक्रम से एक दिन पहले ही पहुंच गए.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->