होम /न्यूज /झारखंड /दादा को श्रद्धांजलि देने पैतृक गांव पहुंचे CM हेमंत सोरेन, लोगों को दी कई योजनाओं की सौगात

दादा को श्रद्धांजलि देने पैतृक गांव पहुंचे CM हेमंत सोरेन, लोगों को दी कई योजनाओं की सौगात

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने  शहीद दादा सोबरन सोरेन के 65वें शहादत दिवस पर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया (News18hindi)

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने शहीद दादा सोबरन सोरेन के 65वें शहादत दिवस पर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया (News18hindi)

Jharkhand News: हेमंत सोरेन अपने पैतृक गांव रामगढ़ जिले के नेमरा के लुकैयाटांड़ में अपने दादा सोबरन सोरेन के 65वें शहाद ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

हेमंत सोरेन अपने पैतृक गांव रामगढ़ जिले के नेमरा के लुकैयाटांड़ पहुंचे
अपने शहीद दादा सोबरन सोरेन के 65वें शहादत दिवस पर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया
महाजनी प्रथा के खिलाफ सोबरन सोरेन ने बिगुल फूंका था, इसीलिए महाजनों ने उनकी हत्या कर दी थी

रिपोर्ट: जावेद खान

रामगढ़: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन रविवार को अपने गृह जिले रामगढ़ के गोला प्रखंड अंतर्गत पैतृक गांव नेमरा के लुकैया टांड़ में अपने दादा सोबरन सोरेन के 65वें शहादत दिवस समारोह में शामिल होने पहुंचे. उनके साथ झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन, रामगढ विधायक ममता देवी भी पहुंची. उनके दादा स्वर्गीय सोबरन सोरेन की महाजनों ने हत्या कर दी थी. हेमंत सोरेन ने अपने दादा सोबरन सोरेन के प्रतिमा का अनावरण किया और श्रद्धांजलि दी. मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि झारखंडी रोनक शहीदों की धरती रही है. हमारे दादा ने महाजन प्रथा के खिलाफ लड़ाई लड़ी इस लड़ाई में उन्होंने अपनी शहादत दी आज उनकी शहादत हमारे परिवार को संघर्ष करने और लड़ने की प्रेरणा देती है.

गया जिले के पटवाटोली के बुनकरों की बढ़ेगी आमदानी, अपर मुख्य सचिव ने दिए निर्देश

यहां पर मुख्यमंत्री ने फाउंटेन और जल मीनार का उद्घाटन किया. सभा स्थल पर मुख्यमंत्री ने आरके गर्ल्स हाई स्कूल गढ़वा, राजकीय प्लस टू बालिका उच्च विद्यालय मेदिनीनगर ,मॉडल विद्यालय मसालिया दुमका के नवनिर्मित भवन का भी ऑनलाइन उद्घाटन किया. मुख्यमंत्री ने कहा आज झारखंड में सरकार गांव-गांव तक जा रही है, जो अधिकारी पहले जिले में बैठते थे. वे गांव और पंचायत स्तर पर जाकर ग्रामीणों की समस्याओं को सुन रहे हैं और उसका निदान कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा आप की योजना आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम से ग्रामीणों और आम लोगों को काफी लाभ पहुंचा है. उन्होंने कहा कि पहले गांव में बिजली थी ना सड़क थी आज सभी जगह यह सुविधाएं पहुंच रही है. सभी को वृद्धा और विधवा पेंशन मिल रही  है. मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव को मजबूत किए बिना शहर और राज्य को मजबूत नहीं किया जा सकता है, सरकार बनते ही पहले कोरोना ने  रास्ता रोका लेकिन सरकार ने बिना रुके सभी का ख्याल रखा, भोजन से लेकर बाहर फॅसे मजदूरों को घर वापस लेकर आए.

अब राज्य में सुखाड़ की स्थिति आ गयी हैं. राज्य के किसानों को सूखा से राहत्त देंगे, इसके लिए 225 से अधिक प्रखंडों को सूखाग्रस्त घोषित कर चुके हैं, सभी किसानों को मुआवजा के तौर पर 3500 रुपये खाते में दिए जाएंगे. इससे 30 लाख किसान, परिवारों को सीधे लाभ मिलेगा. मॉडल स्कूल बना कर राज्य के बच्चों को अंग्रेजी माध्यम के निजी विद्यालयों द्वारा शिक्षा और सुविधा देंगे. इसके लिए शिक्षकों को ट्रेंड किया जा रहा है, स्कूल का निर्माण शुरू हो चुका है अगले वर्ष तक सुविधा मिलनी शुरू हो जाएगी.

कार्यक्रम में रामगढ़ की उपायुक्त माधवी मिश्रा, एसपी पीयूष पांडे समेत कई अधिकारी और नेता उपस्थित थे. सोबरन सोरेन झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन के पिता और झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के दादा थे. वो इस इलाके में शिक्षक थे. उन्होंने क्षेत्र में फैले महाजनी प्रथा का विरोध शुरू किया तो महाजनों ने बरलंगा जाने के दौरान 27 नवंबर 1957 को लुकैया टांड़ में उनकी हत्या कर दी थी. तब से झामुमो कार्यकर्ता उनकी शहादत दिवस 27 नवंबर को मनाते हैं.

Tags: CM Hemant Soren, Jharkhand news, Ramgarh news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें