• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • हाय रे व्‍यवस्‍था! साइंस और आर्ट्स जिला टॉपर्स को प्रोत्‍साहन राशि के लिए लगाने पड़ रहे चक्‍कर

हाय रे व्‍यवस्‍था! साइंस और आर्ट्स जिला टॉपर्स को प्रोत्‍साहन राशि के लिए लगाने पड़ रहे चक्‍कर

Education News: छात्राओं को 9 महीने बाद भी प्रोत्‍साहन राशि नहीं मिली है. (सांकेतिक तस्‍वीर)

Education News: छात्राओं को 9 महीने बाद भी प्रोत्‍साहन राशि नहीं मिली है. (सांकेतिक तस्‍वीर)

Ramgarh News Updates: प्रियंका पोद्दार और नाजिया प्रवीण को रामगढ़ के तत्‍कालीन डीसी ने प्रोत्‍साहन राशि देने का ऐलान किया था. अब 9 महीने बीतने के बाद भी उन्‍हें यह राशि नहीं दी गई है. मामला सामने आने के बाद जिला समाज कल्‍याण अधिकारी ने दो-तीन दिनों में प्रोत्‍साहन राशि छात्राओं के अकाउंट में ट्रांसफर कराने का आश्‍वासन दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    जावेद खान 

    रामगढ़. आमतौर पर नेता ओर अधिकारी मेधावी छात्रों के हित में बड़ी-बड़ी बातें करते रहते हैं. जब अपनी ही घोषणओं को धरातल पर उताने की बात आती है तो सभी वादे हवा-हवाई से लगने लगते हैं. दरअसल, 12वीं कक्ष की साइंस व आर्ट्स की टॉपर प्रियंका और नाज़िया को 5-5 हज़ार रुपये बतौर प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की गई थी. इन दोनों छात्राओं को प्रोत्‍साहिन राशि पाने के लिए कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं. दिसंबर 2020 को तत्कालीन उपायुक्त ने डमी चेक सौंपा था. अब 9 महीने बीतने के बाद भी छात्राओं के खाते में पैसे नहीं आए हैं.

    तत्कालीन उपायुक्त संदीप सिंह ने 29 दिसंबर 2020 को जिला प्रसाशन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में 12वीं के विज्ञान और कला संकाय में ज़िला टॉपर रहीं प्रियंका पोद्दार और नाज़िया प्रवीण को डमी चेक सौपा था. प्रियंका पोद्दार एसएस प्लस टू उच्च विद्यालय गोला से इंटरमीडिएट (विज्ञान) में ज़िला की सेकंड टॉपर बनी थीं. प्रियंका को 500 में से 430 अंक मिले थे, जबकि राजबल्लभ प्लस टू हाई स्कूल सांडी की छात्रा नाज़िया प्रवीण कला संकाय में जिला टॉपर रहते हुए 500 अंक में से 402 अंक हासिल किया था. इसके बाद इन्‍हें प्रोत्‍साहन राशि देने की घोषणा की गई थी.

    Jharkhand News: चाउमिन बेचने वाला रातों-रात बन गया लखपति, IPL ने कर दिया मालामाल!

     मूल रूप से चितरपुर की रहने वाली प्रियंका पोद्दार और नाज़िया प्रवीण के अभिभावक 5 हज़ार की प्रोत्साहन राशि के लिए दर्ज़नों बार कार्यालयों के चक्कर लगा चुके हैं. 5 हज़ार पाने के चक्कर में समय और पैसा दोनों गवां रहे हैं. घोषित प्रोत्‍साहन राशि अभी तक इनके बैंक खातों में नहीं आया है. प्रियंका और नाज़िया बताती हैं कि 5000 हज़ार की राशि के लिए कार्यालयों के चक्कर लगाने में किरायाके रूप में 50 रुपये खर्च हो जाता है. उन्‍होंने बताया कि परिजन अब तक कई बार कार्यालय का चक्कर लगा चुके हैं.

    रामगढ की ज़िला समाज कल्याण पदाधिकारी कनक कुमारी टिर्की ने बताया कि दो-तीन दिनों में प्रोत्साहन राशि छात्राओ के बैंक खाते में चली जाएगी. उन्‍होंने बताया कि यह मामला उनके संज्ञान में आया है, जिसपर विभाग गंभीर है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज