दिन में जमा होती थी प्रीमियम राशि, शाम में रसीद हो जाते थे रद्द, सामने आई 20 लाख की हेराफेरी

News18 Jharkhand
Updated: January 9, 2019, 2:10 PM IST
दिन में जमा होती थी प्रीमियम राशि, शाम में रसीद हो जाते थे रद्द, सामने आई 20 लाख की हेराफेरी
रामगढ़ मेन डाकघर

रामगढ़ प्रधान डाकघर के पीएलआई काउंटर में ग्राहकों से ऑनलाइन प्रीमियम की राशि जमा ली जाती थी. लेकिन शाम को सभी रसीदों को रद्द कर राशि अपने पास रख लिया जाता था

  • Share this:
झारखंड के रामगढ़ में डाक जीवन बीमा (पीएलआई) में 20 लाख रुपये के घोटाले का मामला सामने आया है. इस घोटाले को डाक विभाग दिल्ली की टीम ने उजागर किया. इस सिलसिले में रामगढ़ प्रधान डाकघर के डाकपाल संजय सिंह, सहायक डाकपाल सत्येंद्र प्रसाद और मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव जितेन्द्र प्रसाद को निलंबित कर दिया गया है. तीनों पर विभागीय कार्रवाई शुरू हो गई है.

जानकारी के मुताबिक रामगढ़ प्रधान डाकघर के पीएलआई काउंटर में ग्राहकों से ऑनलाइन प्रीमियम की राशि जमा ली जाती थी. लेकिन शाम को सभी रसीदों को रद्द कर राशि अपने पास रख लिया जाता था. यह खेल लगातार जारी था. इस काउंटर में मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव जितेन्द्र प्रसाद बैठते थे. जब दिल्ली डाक विभाग की टीम ने ऑनलाइन सैकड़ों ग्राहकों के प्रीमियम रसीद रद्द होने की जांच की, तो पूरा माजरा सामने आया. आगे की छानबीन में पता चला कि जितेन्द्र प्रसाद ने ही ये सारी गड़बड़ी की है.

इससे पहले भी जितेन्द्र प्रसाद रामगढ़ के कई डाकघरों में लाखों का फर्जीवाड़ा कर चुका है. कुजू डाकघर में 55 लाख रुपये के घोटाले के मामले में उसे निलंबित कर दिया गया था. बाद में निलंबन वापस लेने के बाद उसे रामगढ़ प्रधान डाकघर में तैनात किया गया था. पीएलआई घोटाला के इस नये मामले में अभी तक थाने में कोई केस दर्ज नहीं हुआ है.

इनपुट- जयंत कुमार

ये भी पढ़ें- रामगढ़: अपराधियों की एसबीआई के ATM से कैश उड़ाने की कोशिश हुई नाकाम

रामगढ़ में बैंक ऑफ बड़ौदा की भुरकुंडा शाखा से दो लाख की चोरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रामगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 9, 2019, 2:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...