अपना शहर चुनें

States

झारखंड में दुहरा सकता था तबरेज अंसारी कांड, भीड़ के हत्थे चढ़े युवक को पुलिस ने बचाया

रामगढ़ के पतरातू में ससुराल से घर लौट रहे युवक को चोर समझकर गांववालों ने पीटा
रामगढ़ के पतरातू में ससुराल से घर लौट रहे युवक को चोर समझकर गांववालों ने पीटा

घटना के कुछ देर बाद सीएम हेमंत सोरेन (Hemant Soren) को ट्विटर पर इसकी सूचना मिली. उन्होंने तत्काल हजारीबाग पुलिस को इस मामले में कार्रवाई का निर्देश दिया. रात में ही पुलिस (Police) ने चार आरोपियों को गिरफ्तार (Arrest) कर लिया.

  • Share this:
हजारीबाग. झारखंड में एक बार फिर मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) में युवक की जान जाते-जाते बची. घटना हजारीबाग जिले के गिद्दी की है. 18 अप्रैल की रात को राजू मिस्त्री उर्फ राजू अंसारी गिद्दी स्थित अपने ससुराल से रामगढ़ के पतरातू स्थित अपना गांव लौट रहा था. रास्ते में गिद्दी में ही गांववालों (Villagers) ने उससे पता पूछा. इसके बाद चोर होने का आरोप लगाकर पूरा गांव राजू पर टूट पड़ा. और उसकी बेरहमी से पिटाई कर दी. इस बीच सूचना पर पुलिस (Police) मौके पर पहुंच गई और भीड़ से राजू की जान बचाई.

घटना का वीडियो वायरल 

जानकारी के मुताबिक राजू हजारीबाग के गिद्दी के टेढ़ाताड़ बस्ती स्थित ससुराल से रामगढ़ के पतरातू के जयनगर स्थित घर लौट रहा था. इसी दौरान उसके साथ गिद्दी में यह घटना घटी. घटना को लेकर वारयल हुए वीडियो में पीड़ित अपने लिए जान की भीख मांगता नजर आ रहा है, जबकि गांववाले चारों तरफ से उसे पीटते नजर आ रहे हैं. इस दौरान उसके शरीर पर कपड़े भी नहीं थे. हालांकि पुलिस ने उसे भीड़ से बचाकर घर भेज दिया. तभी पुलिस ने इस मामले में न तो केस दर्ज किया, न ही उसे अस्पताल पहुंचाया. घरवाले राजू को अस्पताल ले गये.



सीएम के ट्वीट पर पुलिस ने की कार्रवाई
घटना के कुछ देर बाद सीएम हेमंत सोरेन को ट्विटर पर इसकी सूचना मिली. उन्होंने तत्काल हजारीबाग पुलिस को इस मामले में जांच कर दोषियों पर कार्रवाई का निर्देश दिया. रात में ही पुलिस ने कार्रवाई करते हुए चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. और पीड़ित को रांची के रिम्स में भर्ती कराया. इस सिलसिले में गिद्दी थाने में 13 लोगों पर केस दर्ज किया गया है.

तबरेज अंसारी को भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला था

बता दें कि पिछले साल सरायकेला में इसी तरह का मामला सामने आया था. 17 जून को तबरेज अंसारी जमशेदपुर स्थित अपने फुआ के घर से सरायकेला स्थित अपने गांव कदमडीहा लौट रहा था. इसी दौरान रास्ते में धातकीडीह गांव में ग्रामीणों ने मोटरसाइकिल चोरी के आरोप में उसे पकड़ लिया और बांधकर रात भर पीटा था. चार दिन बाद सदर अस्पताल में उसकी मौत हो गई.

ये भी पढ़ें- बोकारो: पत्नी की हत्या में गया था जेल, अब दूसरी महिला के साथ जंगल में मिला शव

 

 

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज