एक रूप, एक ऊंचाई...Corona के कारण टूट जाएगी 137 साल पुरानी दुर्गा पूजा की ये परंपरा

कोरोना के चलते इस बार दुर्गा पूजा में ऑनलाइन दर्शन की भी व्यवस्था होगी. (फाइल फोटो)
कोरोना के चलते इस बार दुर्गा पूजा में ऑनलाइन दर्शन की भी व्यवस्था होगी. (फाइल फोटो)

दुर्गा बाड़ी पूजा सामिति के सदस्य शतांक सेन ने बताया कि पिछले 137 सालों से दुर्गा बाड़ी में एक ही रूप और ऊंचाई की प्रतिमा बनाई जाती रही है. लेकिन कोरोना (Corona) के चलते इस बार इसमें बदलाव किया गया है. इस बार प्रतिमा छोटी और नई होगी.

  • Share this:
रांची. राजधानी की दुर्गा बाड़ी में नवरात्र पर मां की पूजा की परंपरा 137 सालों से चली आ रही थी, लेकिन इस साल ये परंपरा टूट जाएगी. कोविड-19 (Covid-19) के चलते इस बार नई और छोटी मूर्ति बनाई जा रही है. जबकि पिछले 137 सालों में यहां मां की प्रतिमा एक जैसी ही रही है. एक ही फ्रेम पर मूर्तिकार हर बार प्रतिमा का निर्माण करते थे. इस बार सरकार की छोटी मूर्ति को लेकर गाइडलाइन के चलते नई मूर्ति बनाई जा रही है.

दुर्गा बाड़ी पूजा सामिति के सदस्य शतांक सेन ने बताया कि पिछले 137 सालों से दुर्गा बाड़ी में एक ही रूप और ऊंचाई की प्रतिमा बनाई जाती रही है. लेकिन कोरोना के चलते इस बार इसमें बदलाव किया गया है. इस बार प्रतिमा छोटी और नई होगी.

शतांक के मुताबिक हर साल दुर्गा पूजा के बाद प्रतिमा का विसर्जन कर दिया जाता था. लेकिन कुछ दिन बाद उसी मूर्ति को तालाब से निकाल दुर्गा बाड़ी ले आया जाता था. अगले साल नवरात्र के मौके पर उसी फ्रेम को मरम्मत कर मूर्ति का निर्माण कराया जाता था. ये सिलसिला 137 साल से जारी था. इसलिए मूर्ति का रूप और उंचाई समान रहता था.



दुर्गा बाड़ी पूजा सामिति के सचिव गोपाल भट्टाचार्य ने बताया कि कोरोना को देखते हुए राज्य सरकार ने दुर्गा पूजा को लेकर गाइडलाइन जारी की है. जिसके अनुसार मां की प्रतिमा 4 फीट से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. लिहाजा इस वर्ष दुर्गा बाड़ी की 137 साल पुरानी परंपरा टूट रही है. नई मूर्ति का निर्माण कराया जा रहा है.
रांची में दुर्गा बाड़ी की नवरात्र पूजा काफी प्रसिद्ध है. हजारों की संख्या में यहां लोग जुटते हैं. लेकिन इस बार ऐसा सरकार की गाइडलाइन के चलते संभव नहीं हो पाएगा. लिहाजा पूजा समिति भक्तों को मां का दर्शन कराने के लिए डिजिटल व्यवस्था की है. भक्त ऑनलाइन प्रसाद और चुनरी भी चढ़ा सकेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज