लाइव टीवी

झारखंड में 141 कैदी होंगे रिहा, सजा माफ करने का फैसला

News18 Jharkhand
Updated: November 1, 2019, 10:49 AM IST
झारखंड में 141 कैदी होंगे रिहा, सजा माफ करने का फैसला
मुख्यमंत्री आवास पर राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की बैठक हुई. जिसमें 141 कैदियों को जेल से रिहा करने का फैसला लिया गया.

मुख्यमंत्री रघुवर दास (CM Raghuvar Das) की अध्यक्षता में राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद (State Sentencing Revision Board) की बैठक हुई. इसमें 153 बंदियों (Prisoners) की रिहाई का प्रस्ताव रखा गया. इनमें 141 बंदियों को रिहा करने पर सहमति बनी.

  • Share this:
रांची. मुख्यमंत्री आवास पर गुरुवार शाम राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद (State Sentencing Revision Board) की बैठक हुई. इस बैठक में राज्यभर के विभिन्न जेलों में बंद 141 बंदियों (Prisoners) की सजा माफ करने का फैसला लिया गया. इन बंदियों को जेल (Jail) से रिहा किया जाएगा. मुख्यमंत्री रघुवर दास (CM Raghuvar Das) की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में 153 बंदियों की रिहाई का प्रस्ताव रखा गया. इनमें 141 बंदियों को रिहा करने पर सहमति बनी. इस मौके पर सीएम ने कहा कि सजा काट चुके बंदियों को भी सामान्य जिंदगी जीने का पूरा हक है. इन्होंने जाने-अनजाने जो गलतियां की थीं, उनकी सजा इन्हें मिल गई है. अब इन्हें समाज की मुख्यधारा में शामिल करना हर व्यक्ति का कर्तव्य है.

सीएम ने कहा कि कोई भी व्यक्ति सम्मान के साथ जीवन जी पाए, यह हक उसे संविधान प्रदान करता है. कई मामले ऐसे भी सामने आते हैं, जिसमें बंदी सजा काट लेते हैं, सजा पूरी हो जाती है, लेकिन गरीबी के कारण कानूनी सहायता उपलब्ध नहीं होने से वे बरी होने से वंचित हो जाते हैं. सीएम ने हर 3 महीने पर राज्य सजा पुनरीक्षण पर्षद की बैठक कर ऐसे मामलों का तुरंत निपटारा करने का निर्देश दिया.

बैठक में गृहविभाग के अपर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल, डीजीपी कमल नयन चौबे, कारा महानिरीक्षक शशि रंजन समेत अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे.

ये भी पढ़ें- रांची में टेक्सटाइल और फुटवियर प्लांटों का शिलान्यास, 40 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 10:48 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...