झारखंड के 18 हजार होमगार्ड्स 10 दिन से आंदोलन पर, बोले- CM हेमंत कर रहे वादाखिलाफी

रांची में 8 मार्च से होमगार्ड्स का आंदोलन जारी है.

रांची में 8 मार्च से होमगार्ड्स का आंदोलन जारी है.

Ranchi News: झारखंड होमगार्ड्स वेलफेयर एसोसियशन के प्रदेश महासचिव राजीव तिवारी का कहना है कि एक तो झारखंड में होमगार्ड्स के जवानों को साल में सिर्फ चार महीने ही काम मिल पाता है, ऊपर से कोई सुविधा भी नहीं मिलती है.

  • Share this:

रांची. झारखंड में गृह रक्षा वाहिनी यानि होमगार्ड्स (Home guards) के जवान 08 मार्च से आंदोलन पर हैं. चरणबद्ध तरीके से आंदोलन कर रहे होमगार्ड्स के जवान इन दिनों रांची में विधानसभा (Jharkhand Assembly) के समक्ष धरना प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) को 2019 के चुनावी वादे को याद दिला रहे हैं. झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष के तौर पर हर चुनावी सभा में हेमंत सोरेन ने होमगार्ड्स के जवानों को बिहार की तर्ज पर सुविधाएं देने का वादा किया था. अब जबकि वे राज्य के मुख्यमंत्री हैं, तो होमगार्ड्स के जवान उनसे चुनावी वादा पूरे करने को कह रहे हैं.

बिहार में मिलती हैं ये सुविधाएं

झारखंड होमगार्ड्स वेलफेयर एसोसियशन के प्रदेश महासचिव राजीव तिवारी ने न्यूज-18 से कहा कि झारखंड के होमगार्ड जवान सिर्फ वही मांग रहे हैं जिसका वादा हेमंत सोरेन ने किया था. राजीव तिवारी कहते हैं कि एक तो झारखंड में होमगार्ड्स के जवानों को साल में सिर्फ चार महीने ही काम मिल पाता है, ऊपर से कोई सुविधा भी नहीं है.

आंदोलित होमगार्ड जवानों का कहना है कि बिहार में होमगार्ड्स के जवानों को नियमित ड्यूटी, पुलिसकर्मियों की तरह वेतन, भविष्यनिधि की सेवा, सेवानिवृत्ति के बाद एकमुश्त भुगतान का लाभ मिलता है. वहीं झारखंड में ड्यूटी में लगने पर सिर्फ एक दिन का पांच सौ रुपये मिलता है. इसके अलावा कोई सामाजिक सुरक्षा नहीं मिलता.
महिला होमगार्ड जवानों का अलग दर्द

महिला होमगार्ड जवान सोनी कुमारी हर दिन विधानसभा के समक्ष आकर धरना प्रदर्शन में शामिल होती हैं. वह वर्दी में धरनास्थल पहुंचती हैं. सोनी कुमारी कहती हैं कि शौक और जज्बे के साथ होमगार्डस में शामिल हुई थी. तब घर-परिवार और आस-पड़ोस के लोग गौरवान्वित हुए थे. पर अब जबकि 12 महीने में सिर्फ चार महीने ही ड्यूटी लगती है और बाकी समय घर पर रहना पड़ता है तो पड़ोसी ताना देते हैं.

झारखंड में 3100 महिला होमगार्ड जवान



झारखंड में होमगार्ड्स के कुल 18643 जवान हैं जिसमें से 31 सौ महिला जवान हैं. होमगार्ड्स वेलफेयर एसोसियशन के अनुसार इनमें से 9000 जवानों को ही ड्यूटी मिल पाती है. जिन जवानों की ड्यूटी लगती है उन्हें सिर्फ 500 रुपये प्रति दिन के हिसाब से राशि मिलती है.

बिहार में होमगार्ड के जवानों को मिल रही सुविधा के अनुसार झारखंड में भी सुविधाएं देने की मांग को लेकर गत 08 मार्च होमगार्ड्स के जवान विधानसभा के समक्ष धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. आंदोलन कर रहे जवानों का आरोप है कि झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष होने के नाते हेमंत सोरेन ने जो वादे उनसे किये थे वो अब उसे भूल गए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज