Home /News /jharkhand /

कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या से झारखंड सरकार चिंंतित, 10 जिलों के 27 कंटेनमेंट जोन सील

कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या से झारखंड सरकार चिंंतित, 10 जिलों के 27 कंटेनमेंट जोन सील

झारखंड में सोमवार को सबसे ज्यादा 20 कोरोना संक्रमित मिले. इसी के साथ सूबे में कोरोना मरीजों की संख्या 103 हो गई

झारखंड में सोमवार को सबसे ज्यादा 20 कोरोना संक्रमित मिले. इसी के साथ सूबे में कोरोना मरीजों की संख्या 103 हो गई

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने आदेश दिया कि कोरोना संक्रमण (Corona Infection) को लेकर चिन्हित किए गए सभी कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) को पूरी तरह सील किया जाए.

    रांची. झारखंड में कोरोना संक्रमितों (Corona Infected) की संख्या तेजी से बढ़ रही है. इसको देखते हुए राज्य सरकार ने 10 जिलों के 27 कंटेनमेंट जोन (Containment Zone) को सील करने का आदेश दिया है. इन इलाकों में अगले आदेश तक आवाजाही पर रोक रहेगी. सोमवार को मुख्यमंत्री (Hemant Soren) की अध्यक्षता में हुई राज्यस्तरीय समन्वय समिति की पहली बैठक में ये फैसला लिया गया.

    मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि कोरोना संक्रमण को लेकर चिन्हित किए गए कंटेनमेंट जोन को पूरी तरह सील किया जाए. खासकर रांची जिले की सीमा रेखा पर इसका कड़ाई से अनुपालन किया जाए. कंटेनमेंट जोन में आवाजाही पर पूरी तरह रोक लगाई जाए, ताकि इसके संक्रमण के प्रसार को रोकने में मदद मिले. मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां पर कोरोना संक्रमण नहीं है, वहां भी इसे नहीं फैलने देने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएं.

    तीन श्रेणियों में कोरोना संक्रमण को लेकर तैयारी 

    स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ नीतिन मदन कुलकर्णी ने मुख्यमंत्री को बताया कि राज्य में 27 कंटेनमेंट जोन चिन्हित किए गए हैं. सूबे के दस जिले कोरोना संक्रमण से प्रभावित हैं. स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि तीन श्रेणियों में कोरोना संक्रमण को लेकर स्वास्थ्य से जुड़ी व्यवस्थाएं की गई हैं. इसके तहत जिन्हें कोरोना का कोई लक्षण नहीं मिला है, उनके लिए 129 कोविड केयर सेंटर बनाया गया है. इसके अलावा जिनमें कोरोना संक्रमण के थोड़े-बहुत लक्षण मिले हैं, उनके लिए 57 डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटेर और कोरोना मरीजों के इलाज के लिए 21 डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल तैयार किए गए हैं. राज्य में चार लैब में हर दिन तकरीबन 600 सैंपलों की जांच की जा रही है. और तीन नए लैब खोलने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है.

    डीसी-एसपी को वाहनों में अनाज का पैकेट लेकर चलने का आदेश 

    मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलों के उपायुक्त और पुलिस अधीक्षक अपने वाहन में अनाज का पैकेट जरुर रखें. जब भी वे क्षेत्र का भ्रमण करें, तो रास्ते में जो भी गरीब या जरुरतमंद दिखें, उन्हें अनाज का पैकेट दें. उन्होंने अधिकारियों को कहा कि वे राशन की कालाबाजारी और गड़बड़ियों को रोकने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएं. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि जरुरतमंदों को कम से कम 15 दिन का अनाज उपलब्ध कराने के लिए भोजन का पैकेट तैयार कर उसका वितरण सुनिश्चित करें.

    दूसरी बीमारियों से पीड़ितों के लिए पुलिस कराएगी एंबुलेंस की व्यवस्था 

    मुख्यमंत्री ने कहा कि रांची का हिंदपीढ़ी इलाका कोरोना संक्रमण को लेकर हॉटस्पॉट बना हुआ है. ऐसे में यह इलाका पूरी तरह सील है. आवाजाही पर रोक लगी हुई है. इस वजह से दूसरी बीमारी से ग्रसित मरीजों को अगर इलाज की जरुरत पड़े, तो पुलिस अपनी निगरानी में एंबुलेंस की व्यवस्था कर उसे अस्पताल तक पहुंचाएं. इस दौरान डीजीपी ने बताया कि जहां पर सीआरपीएफ की तैनाती की जानी है, वहां राज्य पुलिस बल के भी जवान साथ में रहेंगे. रांची से दूसरे जिलों को जोड़ने वाले हर रास्ते पर पुलिस बल की तैनाती के साथ सीसीटीवी से निगरानी की जाएगी. मुख्यमंत्री ने कोरोना महामारी को लेकर ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों और स्वास्थ्यकर्मियों को दो-दो मास्क उपलब्ध कराने का निर्देश दिया.

    सरकारी अस्पतालों व निजी अस्पतालों में ओपीडी शुरू कराने का आदेश 

    मुख्यमंत्री ने स्पष्ट तौर पर कहा कि कोरोना महामारी के कारण अन्य बीमारियों से जुझ रहे लोगों को इलाज में परेशानी नहीं होनी चाहिए. उन्होंने सुझाव दिया कि जरूरत के हिसाब से चरणबद्ध तरीके से अस्पतालों में ओपीडी सेवा शुरु की जानी चाहिए. मुख्यमंत्री ने इसके लिए मुख्य सचिव, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव और रिम्स निदेशक को आवश्यक पहल करने को कहा.

    राज्य में 6500 डॉक्टर लड़ रहे कोरोना से जंग

    बता दें कि पूरे राज्य में कोरोना संक्रमण को लेकर लगभग छह हजार पांच सौ चिकित्सक, लगभग ग्यारह हजार पारा मेडिकल स्टाफ्स ड्यूटी पर लगाए गए हैं. इसके अलावा लगभग 450 आयुष चिकित्सकों को भी कोरोना के इलाज के लिए तैनात किया गया है. राज्य में लगभग 90 प्रतिशत हाउस होल्डर्स का सर्वे कराया जा चुका है. इसमें लगभग 53 लाख परिवार ग्रामीण क्षेत्र के हैं. कोरोना संकट को लेकर इनके डिटेल्स लेकर सूची तैयार कर ली गई है.

    ये भी पढ़ें- रिम्स में भर्ती लालू यादव पर कैसे मंडराया कोरोना का खतरा? जानें पूरी कहानी

    Tags: Corona infection, Hemant soren, Jharkhand news, Ranchi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर