अपना शहर चुनें

States

CM हेमंत सोरेन की पहल पर बची 6 साल की बच्ची की जान, मानव तस्कर के चंगुल से हुई आजाद

Ranchi News: सीएम हेमंत सोरेन की पहल से मानव तस्करी से बची 6 साल की बच्ची. (File)
Ranchi News: सीएम हेमंत सोरेन की पहल से मानव तस्करी से बची 6 साल की बच्ची. (File)

Ranchi News: मानव तस्करी (Human Trafficking) की सूचना मिलते ही सीएम हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने डीजीपी काे फाेन कर बच्ची काे बचाने का आदेश दिया. डीजीपी ने निर्देश पर एसपी ने कार्रवाई करते हुए बच्ची काे सकुशल बरामद कर लिया.

  • Share this:

रांची. मुख्यमंत्री हेमंत साेरेन (Hemant Soren) की पहल पर छह साल की बच्ची की जान बच गई. बच्ची मानव तस्कर (Human Trafficking) के चंगुल से छूट पाई. बच्ची पश्चिमी सिंहभूम जिले के कुंडुसाई गांव की रहने वाली है. उसे मनाेहरपुर का एक शख्स बस से रांची ला रहा था. बच्ची काे ये पता नहीं था कि उसे कहां ले जाया जा रहा है. बस इतना पता था कि वह किसी के घर में कामकाज करेगी. बस से ही किसी ने इसकी सूचना मुख्यमंत्री हेमंत साेरेन काे दी. सीएम ने तत्काल पहल करते हुए बच्ची को मानव तस्कर के चंगुल से आजाद कराया.


दरअसल, मानव तस्करी की सूचना मिलते ही सीएम ने डीजीपी काे फाेनकर बच्ची काे बचाने का आदेश दिया. डीजीपी ने तत्काल एसपी काे कार्रवाई कर बच्ची को आजाद कराने काे कहा. एसपी के निर्देश पर पुलिस एक्शन में आई और बस से बच्ची काे सकुशल बरामद किया. पुलिस ने उस शख्स काे गिरफ्तार कर लिया, जो बच्ची को ले जा रहा था.


मानव तस्कर के चंगुल से आजाद होने के बाद बच्ची ने बताया कि उसका नाम खुशबू कंडूलना है. उसके माता-पिता का नाम साेमरा कंडूलना और सुसन्ना कंडूलना है. वह तीसरी कक्षा की छात्रा है. और पश्चिमी सिंहभूम जिले के कुंडुसाई गांव की रहने वाली है.



मानव तस्कराें के खिलाफ करें सख्त कार्रवाई


मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पुलिस काे ऐसी घटनाओं पर तत्काल राेक लगाने का निर्देश दिया. उन्हाेंने कहा कि सभी ग्राम बाल सुरक्षा इकाई, प्रखंड बाल सुरक्षा केंद्र और सखी केंद्राें काे कार्यशील करें. इससे ऐसी घटनाओं पर राेक लग सकेगी. सीएम ने पुलिस प्रशासन काे भी मानव तस्कराें के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की हिदायत दी है, ताकि इस तरह का अपराध करने वालों के मन में डर पैदा हाे. उन्होंने पुलिस से सख्ती बरतने को कहा है, ताकि तस्कर ऐसी घटनाओं काे अंजाम देने से पहले सौ बार सोचें.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज