झारखंड में 65 हजार पारा शिक्षकों की नौकरी खतरे में, बहाली की जांच का आदेश

डीडीसी की अध्यक्षता वाली कमिटी प्रखंडवार पारा शिक्षकों की बहाली की जांच करेगी. पांच जिलों में जांच के लिए विशेष तौर पर जोर दिया गया है. इनमेें पलामू, गढ़वा,चतरा, देवघर और साहिबगंज शामिल हैं.

News18 Jharkhand
Updated: July 2, 2019, 3:48 PM IST
झारखंड में 65 हजार पारा शिक्षकों की नौकरी खतरे में, बहाली की जांच का आदेश
पलामू के नौडीहा बाजार और छतरपुर प्रखंड में 458 पारा शिक्षकों की गलत तरीके से बहाली का मामला सामने आया.
News18 Jharkhand
Updated: July 2, 2019, 3:48 PM IST
झारखंड में 65 पारा शिक्षकों की नौकरी खतरे में पड़ गई है. सरकार ने इनकी बहाली की जांच का आदेश दे दिया है. जांच में यह पता लगाया जाएगा कि नियुक्ति में निर्धारित प्रक्रिया का पालन किया गया या नहीं. दरअसल पलामू के नौडीहा बाजार और छतरपुर प्रखंड में 458 पारा शिक्षकों की गलत तरीके से बहाली का मामला सामने आया. इसके बाद सरकार ने पूरे राज्य में बहाली की जांच कराने का फैसला लिया है. सरकार ने सभी जिलों के डीसी को जांच कराने का आदेश दिया है.

डीसी को जांच का आदेश

झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद की ओर से पलामू उपायुक्त को निर्देश दिया गया है कि डीडीसी की रिपोर्ट में जिन पारा शिक्षकों की बहाली में अनियमितता पाई गई है, वैसे शिक्षकों के मानदेय पर रोक लगाकर उन्हें सेवामुक्त किया जाए. परिषद ने राज्य के दूसरे प्रखंडों में भी इस तरह की गड़बड़ी की आशंका जताई है. ऐसे में सभी उपायुक्तों को डीडीसी की अगुआई में कमिटी बनाकर जांच करने के लिए कहा है.

इन 5 जिलों में ज्यादा गड़बड़ी

यह कमिटी प्रखंडवार पारा शिक्षकों की बहाली की जांच करेगी. पांच जिलों में जांच के लिए विशेष तौर पर जोर दिया गया है. इनमेें पलामू, गढ़वा,चतरा, देवघर और साहिबगंज शामिल हैं. इन जिलों से बहाली से जुड़ी शिकायतें सरकार को मिलती रही हैं. कमिटी पांच बिंदुओं पर जांच करेगी. बहाली में ग्राम शिक्षा समिति और प्रखंड शिक्षा समिति से सलाह ली गई या नहीं. जिला स्तरीय कमिटी से बहाली पर मंजूरी मिली या नहीं. कही अधिकारियों की अनुशंसा पर ही बहाली तो नहीं कर दी गई.

ये भी पढ़ें- झारखंड में नक्सली बच्चों को करते हैं भर्ती- गृह मंत्रालय

पलामू: नक्सलियों के 5 केन बम नाले से बरामद
Loading...

 
First published: July 2, 2019, 3:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...