झारखंड: 9 साल का आदिवासी बच्चा यूनाइटेड नेशन फूड समिट में देगा भाषण

आइवान रांची के हेहल स्थित डेलाटोली का रहने वाला है.

आइवान रांची के हेहल स्थित डेलाटोली का रहने वाला है.

Ranchi News: यह ऑनलाइन अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन रोम से 16 से 18 जून तक आयोजित की जाएगी. आइवान इस समिट में आदिवासियों के देशज ज्ञान और खेती पर भाषण देगा.

  • Share this:

रांची. झारखंड के आइवान अभय मिंज ने वो कर दिखाया है, जो 9 साल के बच्चे सोच भी नहीं सकते. 9 साल के अभय को ‘फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन ऑफ यूनाइटेड नेशन’, ‘यूनाइटेड नेशन फूड समिट (United Nations Food summit)’ और ‘ग्लोबल इंडिजेनस यूथ फोरम’ के संयुक्त आयोजन में वक्तव्य के लिए आमंत्रित किया गया है. यह ऑनलाइन अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन रोम से 16 से 18 जून तक आयोजित की जाएगी. अभय इस समिट में आदिवासियों के देशज ज्ञान और खेती पर चर्चा करेगा.

आइवान पांच मिनट का स्वागत वक्तव्य 16 जून को देगा. रांची स्थित हेहल डेलाटोली के रहने वाले आइवान के पिता डॉ अभय सागर मिंज डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विवि में एंथ्रोपोलॉजी के शिक्षक हैं, जबकि माता डॉ मीनाक्षी मुंडा भी शिक्षिका रह चुकी हैं.

आइवान के पिता अभय मिंज ने बताया कि आइवान वक्तव्य से पहले पारंपरिक सरना प्रार्थना करेगा, इसकी तैयारी उसने कर ली है. वह जनजातीय देशज ज्ञान और खेती पर अपनी बातों को केंद्रित करेंगे.

आइवान के नाम की अनुशंसा येफेड के निदेशक अनीश श्रेष्टा ने की थी, जो ग्लोबल इंडिजेनस यूथ फोरम में मानद सदस्य भी हैं.
यूनाइटेड नेशन फूड समिट (United Nations Food summit) यह समझती है कि किसी भी समुदाय के भविष्य वहां के युवाओं पर निर्भर करती हैं. जनजातीय युवा आज बेहतर ढंग से नई टेक्नोलॉजी और ट्रेडिशनल नॉलेज का सामंजस्य बना सकते हैं. ऐसे में जनजातीय युवा पीढ़ी को आगे आना ही होगा. इसलिए इस प्रकार के सम्मेलन में आदिवासी युवाओं का मुखर होना आवश्यक है.

2017 में रोम में आयोजित महत्वपूर्ण सम्मेलन में यह तय हुआ था कि आदिवासी युवाओं को भी अपने समृद्ध स्वदेशी ज्ञान और खाद्य पदार्थों को संरक्षित और संवर्धन के प्रयास का अवसर प्राप्त हो.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज