शिबू सोरेन के पीएस शशिनाथ झा हत्याकांड में आया ये नया मोड़

प्रार्थी हबीबुल्लाह ने याचिका के माध्यम से अदालत को बताया कि 1998 में लाश के पास से बरामद हुए कपड़े और सामान उनके भाई के थे. इसी आधार पर वह शुरू से शव पर अपना दावा ठोक रहा है.

News18 Jharkhand
Updated: May 17, 2019, 6:56 PM IST
शिबू सोरेन के पीएस शशिनाथ झा हत्याकांड में आया ये नया मोड़
शिबू सोरेन के पीएस शशिनाथ झा हत्याकांड में आया ये नया मोड़
News18 Jharkhand
Updated: May 17, 2019, 6:56 PM IST
झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) सु्प्रीमो शिबू सोरेन के पीएस रहे शशिनाथ झा की हत्या के मामले में नया मोड़ आया है. दरअसल जिस शव को सीबीआई ने शशिनाथ झा का शव बताया था. उस शव का नया दावेदार सामने आया है. मो. हबीबुल्लाह नामक शख्स ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर उस शव को अपने भाई का शव होने का दावा किया है.

हाइकोर्ट के न्यायाधीश अमिताभ कुमार गुप्ता की अदालत में इस मामले में शुक्रवार को सुनवाई हुई. इस दौरान दोनों पक्षों को सुनने के बाद कोर्ट ने सीबीआई को जवाब पेश करने को कहा है. कोर्ट ने सीबीआई को कहा है कि अगर लाश का अंतिम संस्कार नहीं गया है, तो उसे सुरक्षित रखा जाए. तब तक जब तक इस मामले की सुनवाई पूरी न हो जाए.

प्रार्थी हबीबुल्लाह ने याचिका के माध्यम से अदालत को बताया कि 1998 में लाश के पास से बरामद हुए कपड़े और सामान उनके भाई के थे. इसी आधार पर वह शुरू से शव पर अपना दावा ठोक रहा है. बतौर प्राथी लेकिन उन्हें कोई सुनने को तैयार नहीं हुआ. लिहाजा उन्हें हाइकोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा है. हबीबुल्लाह ने याचिका में अंतिम संस्कार के लिए शव को सौंपे जाने की मांग की है.

हबीबुल्लाह के मुताबिक उसका भाई अलीम अंसारी लापता चल रहा है. अभी तक न तो वह मिला है और न ही उसकी लाश मिली है. उन्होंने मामले की जांच की मांग की है और कहा कि अब तो अदालत भी मान चुकी है कि वह शव शशिनाथ झा का नहीं है. उधर, सीबीआई के द्वारा रांची के प‍िस्‍का बागान से बरामद शव के बारे में फॉरें‍स‍िक र‍िपोर्ट भी स्‍पष्‍ट नहीं कर सकी क‍ि वह शशिनाथ झा का शव है या क‍िसी और का. इस मामले में अगली सुनवाई 19 अगस्‍त को होगी.

बता दें कि पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने शिबू सोरेन को अपने निजी सचिव शशि नाथ झा की हत्या के मामले में बरी कर दिया. सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले में दिल्ली हाइकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा. दिल्ली हाइकोर्ट ने शिबू सोरेन को हत्याकांड में दोषी करार देने के निचली अदालत के फैसले को निरस्त कर दिया था. 1994 में दिल्ली से शशिनाथ झा को अगवा कर लिया गया था.

रिपोर्ट- नीरज नयन चौधरी

ये भी पढ़ें- कोचांग गैंगरेप: फादर अल्फांसो समेत 6 दोषियों को आजीवन कारावास की सजा
Loading...

कोचांग गैंगरेप: खूंटी कोर्ट ने फादर अल्फांसो समेत 6 आरोपियों को ठहराया दोषी

खूंटी गैंगरेप: मैं चीखती रही, दरिंदों ने नहीं सुनी

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार