NIA का शिकंजा: सोनू अग्रवाल ने 16 कपंनियों में किया 1600 करोड़ का निवेश

NIA जांच में पता चला कि कोयला कारोबारी व ट्रांसपोर्टर सोनू अग्रवाल ने पांच साल के अंदर 17 कंपनियों मे तकरीबन 1600 करोड़ निवेश किए हैं.

News18 Jharkhand
Updated: July 16, 2019, 12:12 PM IST
NIA का शिकंजा: सोनू अग्रवाल ने 16 कपंनियों में किया 1600 करोड़ का निवेश
NIA का शिकंजा: सोनू अग्रवाल ने 16 कपंनियों में किया 1600 करोड़ का निवेश (प्रतीकात्मक तस्वीर)
News18 Jharkhand
Updated: July 16, 2019, 12:12 PM IST
NIA ने चतरा जिले के टंडवा स्थित मगध व आम्रपाली कोयला परियोजना से टेरर फंडिंग मामले की जांच में खुलासा किया है कि कोयला कारोबारी व ट्रांसपोर्टर सोनू अग्रवाल ने पांच साल के अंदर 17 कंपनियों में तकरीबन 1600 करोड़ निवेश किए हैं. फिलहाल NIA की जांच अभी जारी है और जांच के दौरान और भी खुलासे होने की उम्मीद है.

17 कंपनियों में किए 1600 करोड़ निवेश

NIA ने अभी तक जांच में पाया है कि सोनू अग्रवाल ने 17 कंपनियों में करीब 1600 करोड़ निवेश किए हैं. साथ ही सोनू अग्रवाल ने कई आयरन स्मेलटिंग पिंग आयरन के प्लांटों को भी खरीदा है. NIA ने जांच मे बताया कि सोनू अग्रवाल ने प्रदेश के कई शहरो में जमीन की खरीदारी भी की है. फिलहाल NIA अभी भी जांच मे जुटा है.

 नक्सलियों  को फंडिग मामले में फंसे सोनू अग्रवाल 

नक्सली फंडिग मामले में फंसे कारोबारी सोनू अग्रवाल के मिले कई महत्वपूर्ण दस्तावेज, करोड़ों का निवेश का हुआ खुलासा (प्रतीकात्मक तस्वीर)
नक्सली फंडिग मामले में फंसे कारोबारी सोनू अग्रवाल के मिले कई महत्वपूर्ण दस्तावेज, करोड़ों का निवेश का हुआ खुलासा (प्रतीकात्मक तस्वीर)


बता दें कि सोनू अग्रवाल चर्चा में तब आया था, जब NIA को कोयला कारोबार के दौरान तृतीय सम्मेलन प्रस्तुति कमेटी के नक्सलियों को 25 करोड़ रुपए की फंडिग से संबंधित जानकारी मिली. फिलहाल अभी जांच के दौरान जांच एंजेसी को उम्मीद है कि जल्द ही सोनू अग्रवाल के पार्टनर्स का भी खुलासा होगा.

NIA को घर से मिले कई महत्वपूर्ण दस्तावेज
Loading...

जांच के दौरान NIA की टीम को सोनू अग्रवाल के घर से वी और पैसों के लेन-देन से जुड़ी डायरी मिली थी, जिसमें कंपनियों द्वारा टीपीसी तथा पीएलएफआई को लेवी देने का जिक्र था. साथ ही कई कंपनियों में निवश करने से जुड़े दस्तावेज भी बरामद हुए है .NIA की टीम को सोनू अग्रवाल के घर की गई छापेमारी में जमीन में पैसे इनवेस्ट किए जाने के कई डॉक्यूमेंट मिले थे. जांच के दौरान पता चला है कि कोल कंपनी के अफसरों व ट्रांसपोर्टरों की ब्लैक मनी से रांची के तुपुदाना और रातू में बड़े प्लॉट खरीदे गए हैं.

यह भी पढ़ें- टेरर फंडिंग: NIA ने 15 जगहों पर मारा छापा, BGR कंपनी के अधिकारी का आवास सील

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 16, 2019, 12:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...