'हिंदू फल की दुकान' पर एक्शन, सोशल मीडिया पर मचा बवाल, पूछा- हलाल पर क्यों है चुप्पी
Ranchi News in Hindi

'हिंदू फल की दुकान' पर एक्शन, सोशल मीडिया पर मचा बवाल, पूछा- हलाल पर क्यों है चुप्पी
इस पोस्टर की शिकायत पुलिस से की गई थी. (फोटो साभार: twitter)

Jharkhand: फल विक्रेता पर कार्रवाई के बाद पुलिस से कई सवाल पूछे जाने लगे हैं.

  • Share this:
जमशेदपुर. झारखंड (Jharkhand) के जमशेदपुर (Jamshedpur) में फल की दुकानों पर विश्व हिंदू परिषद का पोस्टर और 'हिंदू फल की दुकान' को लेकर हुई पुलिस कार्रवाई के बाद सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया है. यहां के एक फल की दुकान पर वीएचपी (VHP) अनुमोदित फल दुकान लिखा हुआ था. इसकी शिकायत ट्विटर पर एक यूजर ने झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) से की. इस मामले में जमशेदपुर पुलिस ने ट्वीट कर फल विक्रेता पर कानूनी कार्रवाई और पोस्टर हटाए जाने की जानकारी दी. लेकिन, पुलिस की इस कार्रवाई के बाद सोशल मीडिया पर जमकर हंगामा भी हुआ. पुलिस कार्रवाई के विरोध में सोशल मीडिया पर यूजर्स ने झारखंड पुलिस के कई सवाल पूछे.

एसएचओ पहुंचे कदमा
दैनिक हिन्‍दुस्‍तान की खबर के अनुसार, जानकारी मिलने के बाद थाना प्रभारी रंजीत कुमार कदमा बाजार पहुंचे. इस दौरान फल दुकान से पोस्टर हटवाने के क्रम में कुछ फल दुकानदार पुलिसकर्मी से उलझ गए. इसकी जानकारी मिलने के बाद विश्व हिंदू परिषद कदमा मंडल के अध्यक्ष दीपल विश्वास भी अपने समर्थकों के साथ वहां पहुंचे. वीएचपी नेता ने पुलिस के पोस्टर हटाने का विरोध किया.





पुलिस और वीएचपी कार्यकर्ताओं के बीच नोकझोंक
थाना प्रभारी और वीएचपी के कार्यकर्ताओं के बीच नोकझोंक भी हुई. इस मामले में पुलिस ने ट्वीट कर जानकारी दी कि संबंधित दुकानदारों के विरुद्ध दंड प्रक्रिया संहिता 107 के तहत निरोधात्मक कार्रवाई की जा रही है. साथ ही बताया कि पोस्टर हटवा दिया गया है. जमशेदपुर पुलिस की इस कार्रवाई के बाद सोशल मीडिया पर जमकर हंगामा हुआ. दरअसल, पुलिस की इसपर कार्रवाई कई लोगों को सही नहीं लगा. उसके बाद धार्मिक प्रतीकों के साथ लगातार पोस्ट नजर आते रहे. इसी क्रम में घटना के विरोध में ट्विटर पर शनिवार रात #Hinduphobia_in_Jharkhand लगातार ट्रेंड करता दिख रहा था.

जानिए क्या कह रहे थे यूजर्स
ट्विटर पर इस ट्रेंड के दौरान कई यूजर्स ने पूछा कि हिंदू फल की दुकान लिखने में क्या दिक्कत है. यूजर्स पुलिस से ये भी सवाल पूछ रहे थे कि इस मामले में किस कानून के अंतर्गत कार्रवाई हुई है. यूजर्स ने पुलिस ने पूछा कि क्या इस तरह की कार्रवाई 'हलाल' अथवा 'मुस्लिम होटल' लिखे हुए होटल, रेस्तरां और दुकानों के खिलाफ भी होगी?



पूर्व सीएम ने की घटना की निंदा
प्रदेश के पूर्व सीएम रघुवर दास ने पुलिस कार्रवाई की घटना के बाद इसकी निंदा की. पूर्वी सीएम का कहना है कि फल विक्रेताओं के साथ पुलिसिया व्यवहार निंदनीय है. उन्होंने कहा कि तुष्टीकरण की राजनीति के कारण आजीविका चला रहे छोटे-छोटे व्यापारियों को प्रदेश सरकार तंग करना बंद करे. पूर्व सीएन ने केस वापस नहीं लिए जाने तक बीजेपी के इस मामले में आंदोलन करने की बात भी कही.

 

ये भी पढ़ें: 

 

पलामू में भी कोरोना ने दी दस्तक, झारखंड में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 67 हुई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading