Home /News /jharkhand /

परीक्षा हुई नहीं लेकिन रांची विश्वविद्यालय ने किया एडमिशन फॉर्म जारी, छात्र संगठन ने काटा बवाल

परीक्षा हुई नहीं लेकिन रांची विश्वविद्यालय ने किया एडमिशन फॉर्म जारी, छात्र संगठन ने काटा बवाल

कोरोना संकट के कारण अभी परीक्षाएं नहीं हो पा रही हैं. (फाइल फोटो)

कोरोना संकट के कारण अभी परीक्षाएं नहीं हो पा रही हैं. (फाइल फोटो)

रांची विश्वविद्यालय (Ranchi University) में कोरोना संकट (Corona Crisis) के कारण परीक्षाएं नहीं हो पा रही हैं. इसी बीच वोकेशलन कोर्स (Vocational Course) के लिए एडमिशन फॉर्म जारी कर दिया गया.

रांची. कोरोना संकट (Corona Crisis) की वजह से विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं नहीं हो रही हैं. लेकिन रांची विश्वविद्यालय (Ranchi University) ने वोकेशनल कोर्स में एडमिशन के लिए फॉर्म (Admission Form) जारी कर दिया. विश्विद्यालय के कुलपति को इस गोलमाल की जरा भी भनक नहीं लगी. इस मामले को वीसी के समक्ष छात्र संघ ने उठाया. जिसपर कुलपति ने संज्ञान लिया. कुलपति ने फॉर्म की बिक्री पर रोक लगा दी है. इसके अलावा विभाग के कर्मी को भी जमकर लताड़ लगाई. जानकारी मिली है कि कुलपति की जानकारी के बगैर ही एमएससी के जू लॉजी डिपार्टमेंट के इनवायरमेंटल साइंस के एडमिशन को लेकर फॉर्म की बिक्री शुरू हो गई है. विभाग के इस पूरे गोलमाल की जानकारी विश्वविद्यालय के कुलपति को भी नहीं मिली.

छात्रसंघ पदाधिकारियों ने जमकर काटा बवाल
इस मामले को लेकर रांची विश्वविद्यालय के छात्र संघ के पदाधिकारी कुलपति के पास पहुंचे और पूरे मामले को लेकर कुलपति के कार्यालय में जमकर बवाल काटा. पूरे विवाद पर कुलपति रमेश कुमार पांडेय ने बताया की जिन लोगो को भी फॉर्म दिया गया है उनके पैसे वापस होंगे. उन्होंने बताया कि फिलहाल कोरोना बंदी की वजह से परीक्षाएं नहीं हुई है जिस कारण किसी भी तरह के नामांकन की प्रक्रिया की फिलहाल मनाही होगी.

विश्वविद्यालय प्रशासन पर गोलमाल का है आरोप
छात्र संघ से जुड़े नेताओं का कहना है कि विश्वविद्यालय प्रशासन इन दिनों लगातार गोलमाल कर रहा है. किसी भी मामले को लेकर छात्रों को अवगत नहीं कराया जाता है. उनका ये भी कहना है कि बिना नोटिफिकेशन के नामांकन पत्र बेचा जा रहा है. अब तक 70 से अधिक नामांकन आवेदन पत्र बेज दिए गए हैं. इस कारण विद्यार्थी काफी उहापोह की स्थिति में हैं. इन नेताओं का कहना है कि इस मामले को लेकर अगर कार्रवाई नहीं हुई तो छात्र संगठन जोरदार आंदोलन करेगा.

ये भी पढ़ें: 

ताड़ के पत्तों पर लिखा 200 साल पुराना महाभारत इस परिवार के पास है सुरक्षित, देखें Video

 

लेकिन उठ रहा हैं सवाल
बहरहाल, पूरा मामला रांची यूनिवर्सिटी के कुलपति के संज्ञान में आया है. कुलपति के निर्देश पर छात्रों का पैसा तो वापस दिया जाएगा. लेकिन सवाल यह है कि बगैर किसी जानकारी के कैसे इस तरह से फॉर्म की बिक्री शुरू हो जाती है.

(रिपोर्ट- ओमप्रकाश)

Tags: College education, Education news, Examination, Jharkhand news, Ranchi news, Students

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर