साथी की मौत से आक्रोशित पारा शिक्षक सोमवार से विधायकों के आवास के बाहर देंगे धरना

झामुमो के केंद्रीय महासचिव विनोद पांडेय ने कहा है कि सूबे की सरकार रोजाना लोगों को रोजगार देने की बात करती है. लेकिन जो पहले से रोजगार में है वे मौत के मुंह में समा रहे हैं.

Ajay Lal | News18 Jharkhand
Updated: December 16, 2018, 6:34 PM IST
साथी की मौत से आक्रोशित पारा शिक्षक सोमवार से विधायकों के आवास के बाहर देंगे धरना
दुमका में मंत्री के घर के बाहर पारा शिक्षक की मौत पर एक बार फिर पारा शिक्षक आक्रोश में हैं.
Ajay Lal
Ajay Lal | News18 Jharkhand
Updated: December 16, 2018, 6:34 PM IST
स्थायीकरण की एक सूत्री मांग को लेकर आंदोलन पर चल रहे सूबे के 67 हजार पारा शिक्षक दुमका में अपने एक साथी की मौत पर आक्रोशित हैं. अधिकतर पारा शिक्षकों पर अब प्रशासन की सख्त निगरानी है. लिहाजा पारा शिक्षक अब मोबाइल फोन से अपने आंदोलन को संचालित कर रहे हैं. इधर झामुमो ने पारा शिक्षक की मौत के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया है.

पहले रामगढ़ और अब दुमका में हुई एक पारा शिक्षक की मौत के बाद सूबे के 67 हजार पारा शिक्षकों में आक्रोश है. सूबे के पारा शिक्षकों ने स्थायीकरण के मुद्दे पर चरणबद्ध आंदोलन की शुरुआत की थी. पहले चरण में पारा शिक्षकों ने राज्य के सभी स्कूलों में काला बिल्ला लगाकर पठन पाठन किया था. लेकिन उनकी मांगों पर कोई विचार नहीं हुआ. बाद में पारा शिक्षकों ने 29 अक्टूबर से लेकर दो नवंबर तक राजभवन के पास धरना दिया. फिर 15 नवंबर को राज्य स्थापना दिवस के मौके पर मोरहाबादी में हंगामा किया. फिर लाठीचार्ज से नाराज होकर 16 नवंबर से हड़ताल पर चले गए.

इधर दुमका में हुई एक पारा शिक्षक की मौत पर एक बार फिर पारा शिक्षक आक्रोश में हैं और सोमवार यानी 17 दिसंबर से सभी विधायकों के आवास के सामने धरना देने की योजना बनाई है.

पारा शिक्षकों के मुद्दे पर भाजपा ने एक बार फिर अपनी सरकार का बचाव किया है. भाजपा नेता और भाजपा पंचायती राज प्रकोष्ठ के संयोजक सुमन सिंह ने कहा है कि पारा शिक्षकों को अपनी सोच व्यवहारिक बनानी चाहिए. उन्होंने कहा कि भाजपा ने पारा शिक्षकों को जितना दिया है, उससे ज्यादा किसी सरकार ने नहीं दिया है. इधर सूबे के मुख्य विपक्षी पार्टी ने सरकार पर तीखा हमला बोला है. झामुमो के केंद्रीय महासचिव विनोद पांडेय ने कहा है कि सूबे की सरकार रोजाना लोगों को रोजगार देने की बात करती है. लेकिन जो पहले से रोजगार में है वे मौत के मुंह में समा रहे हैं.

दुमका में हुई एक पारा शिक्षक की मौत पर पारा शिक्षक जल्द ही नये तरीके से आंदोलन की घोषणा करेंगे. इधर मंत्री सरयू राय ने अपनी ही सरकार को जिद छोड़ने की बात कही है. देखना होगा पारा शिक्षकों का मुद्दा कबतक सुलझता है.

ये भी पढ़ें - मंत्री लुईस मरांडी के घर के बाहर शिक्षक की मौत, बढ़ाई सुरक्षा

ये भी पढ़ें - रांची-बोकारो में शिक्षकों का उग्र प्रदर्शन, मंत्री बोले- हठ छोड़ करें वार्ता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 16, 2018, 6:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...