Home /News /jharkhand /

कौन हैं रवि केजरीवाल जिन पर लगा है हेमंत सोरेन सरकार को गिराने की कोशिश का आरोप?

कौन हैं रवि केजरीवाल जिन पर लगा है हेमंत सोरेन सरकार को गिराने की कोशिश का आरोप?

Jharkhand News: झामुमो के पूर्व कोषाध्‍यक्ष रवि केजरीवाल पर हेमंत सरकार को गिराने का आरोप लगा है. (सांकेतिक तस्‍वीर)

Jharkhand News: झामुमो के पूर्व कोषाध्‍यक्ष रवि केजरीवाल पर हेमंत सरकार को गिराने का आरोप लगा है. (सांकेतिक तस्‍वीर)

Hemant Soren Government News: झारखंड मुक्ति मोर्चा के पूर्व कोषाध्‍यक्ष रवि केजरीवाल पर हेमंत सरकार को अपदस्‍थ करने की साजिश रचने का आरोप लगा है. ऐसे में सवाल उठता है कि रवि केजरीवाल कौन हैं?

रांची. झारखंड में एक बार फिर हेमंत सोरेन की सरकार गिराने की खबर जोरों पर है. कुछ महीने पहले भी जोर-शोर से चर्चा थी कि सरकार को गिराने की साजिश रची जा रही है, लेकिन झारखंड की तेज तर्रार पुलिस ने वक्त रहते आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया और खुद को सरकार का संकटमोचक साबित करने का प्रयास किया था. सरकार गिराने के पुराने मामले में अब तक पुलिस जांच के नाम पर कुछ खास बात आगे बढी नहीं थी कि इस बीच एक बार फिर सरकार गिराने के आरोप में पुलिस ने एक और FIR दर्ज कर ली है. अब लोगों की उत्सुकता और बढ गई है. साथ ही रवि केजरीवाल को जानने में भी लोगों की दिलचस्‍पी बढ़ी है.

सरकार गिराने की साजिश जिस रवि केजरीवाल पर लगा है, उनका झामुमो सुप्रिमो शिबू सोरेन और हेमंत सोरेन से वर्षों का रिश्ता रहा है. उन्‍होंने पार्टी मे लंबे समय तक कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी निभाई है. रवि केजरीवाल हेमंत सोरेन की पहली 14 महीने की सरकार में सीएम के साथ साये की तरह रहते थे. सरकार में रवि केजरीवाल की तूती बोला करती थी, लेकिन 2019 में जब झामुमो ने हेमंत सोरेन के नेतृत्व में सरकार बनाई तो केजरीवाल हासिए पर चले गगए. यंहा तक की उनको पार्टी से बाहर का रास्ता भी दिखा दिया गया.

हेमंत सरकार को अपदस्‍थ करने की कोशिश: JMM के 5 से 6 विधायकों से साधा गया था संपर्क, BJP ने बताया प्रोपेगेंडा

 क्‍या है आरोप?
हेमंत सोरोने की सरकार गिराने का आरोप इस बार सत्ताधारी झारखंड मुक्ति मोर्चा के पुराने वफादार और लम्बे समय तक पार्टी के कोषाध्यक्ष रहे रवि केजरीवाल पर लगा है. रवि केजरीवाल पर आरोप है कि घाटशिला के विधायक रामदास सोरेन को हेमंत सरकार से बगावत कर पार्टी तोड़ने के लिए उकसाया. इसके लिए केजरीवाल पर विधायक रामदास सोरेन ने नई सरकार में मंत्री पद और पैसे का प्रलोभन देने का आरोप लगाया है. विघायक रामदास सोरेन का कहना है कि केजरीवाल के साथ उनका एक दोस्त अशोक अग्रवाल ने प्रलोभन उनके सरकारी रांची निवास पर आकर दिय़ा था. झामुमो विधायक ने रांची के धुर्वा थाने में इस बाबत अपनी शिकायत दी, जिसपर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है.

क्या हेमंत सोरेन की सरकार खतरे में है?
81 विधानसभा सीटों वाली झारखंड विधानसभा में हेमंत सोरेन की सरकार के पास खुद की पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा के 30 सदस्य के साथ कांग्रेस के 18 और राजद के 1 विधायक का समर्थन है. वहीं, अगर विपक्ष की बात करें तो मुख्य विपक्षी पार्टी भाजप के पास कुल 26 विधायक हैं और सहयोगी आजसू के पास 2 विधायक हैं. ऐसे में सरकार बनाने के लिए विपक्ष को 13 विधायकों की जरूरत पडेगी. आंकड़ों को देखें तो यह फिलहाल नामुमकिन सा दिखता है.

झारखंड विधानसभा में दलों की स्थिति

झामुमो      30
कांग्रेस      18
राजद         1
भाजपा     26
आजसू       2
सीपीआई एमएल 1
एनसीपी     1
निर्दलीय    2

हेमंत सोरेन सरकार गिराने का प्रयास! JMM विधायक का दावा- BJP संग सरकार बनाने का था ऑफर

 कम होगा लोगों का भरोसा
आंकड़े हेमंत सोरेन सरकार के पक्ष में हैं, ऐसे में रामदास सोरेन के आरोप पर FIR कई सवाल खड़ा कर रहा है. रामदास सोरेन की पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा के 30 विधायक हैं और पार्टी तोड़ कर नई पार्टी बनाने के लिए दो तिहाई विधायकों की जरूरत पड़ेगी. ऐसे में कोई 1 विधायक को तोड़ने की कोशिश कर रहा है तो यह समझ से परे है. अगर सरकार मुश्किल में है या किसी ने सत्ताधारी विधायकों को प्रलोभन देने की कोशिश की तो यह सार्वजनिक नहीं होनी चाहिए थी. इससे सरकार में काम करने वाले लोगों का मनोबल गिरेगा. दूसरी तरफ, नौकरशाह फैसले लेने से हिचकेंगे. कुल मिलाकर सरकार पर से लोगों का भरोसा कम हो जाएगा.

Tags: CM Hemant Soren, Conspiracy to topple Hemant Government, Jharkhand news, JMM

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर