झारखंड में बांग्लादेश से Remdesivir सप्लाई पर भड़का विपक्ष, मरांडी बोले- जनता को भ्रमित कर रही सरकार

झारखंड में बांग्लादंश से रेमडेसिविर सप्लाई पर बाबूलाल मरांडी का आरोप, भारत सरकार को नहीं किया आवेदन  
 (फाइल फोटो)

झारखंड में बांग्लादंश से रेमडेसिविर सप्लाई पर बाबूलाल मरांडी का आरोप, भारत सरकार को नहीं किया आवेदन   (फाइल फोटो)

पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने कहा कि रेमडेसिविर खरीद की झारखंड सरकार को अनुमति दिलाने के लिये हमने देश के स्वास्थ्य मंत्री के साथ ही भारतीय ड्रग कंट्रोलर से बात की है. किसी बांग्लादेशी कंपनी ने ऐसा कोई आवेदन भारत सरकार के पास नहीं दिया है.

  • Share this:
रांची. बांग्लादेश से रेमडेसिविर की खरीद को लेकर झारखंड में सरकार के दावों पर विपक्ष ने सवाल उठा दिए हैं. भाजपा नेता विधायक दल एवं पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि खरीद की झारखंड सरकार को अनुमति दिलाने और तमाम शंका के समाधान के लिये हमने देश के स्वास्थ्य मंत्री के साथ ही भारतीय ड्रग कंट्रोलर वीजी सोमानी से बात की है. बांग्लादेशी कंपनी झारखंड या दूसरे राज्यों को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिये देने को आज तक ऐसा कोई भी आवेदन भारत सरकार में किया ही नहीं गया है. सरकार जनता को भ्रमित कर रही है.

उन्होंने कहा कि किसी भी विदेशी ड्रग/वैक्सीन/ या ऐसे जरूरी सामान को भारत ही नहीं किसी दूसरे देश में भी बेचने की इजाजत उस देश की निहित प्रकिया से गुजरती है. ऐसा करना देश के नागरिकों के जान की सुरक्षा के लिये आवश्यक है. जो बांग्लादेशी कंपनी झारखंड या दूसरे राज्यों को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिये देने की पेशकश कर रही है या करना चाहती है, उसने आजतक ऐसा कोई भी आवेदन भारत सरकार में किया ही नहीं है.

Youtube Video


अगर ऐसी कोई कंपनी नमूने के साथ रेमडेसिविर देने का आवेदन भारत सरकार को विहित प्रपत्र में करती है तो उसके नमूने के स्टैंडर्ड की जांच कर तुरंत मंज़ूरी दी जायेगी. बशर्ते की उसके यहां निर्मित हो रही दवा यहां इस्तेमाल की जा रही दवा की गुणवत्ता के समकक्ष हो.
पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने कहा कि वह झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से आग्रह करते हैं कि अगर बंगलादेशी ऐसी किसी कंपनी की ओर से भारत सरकार में नमूने के साथ रेमडेसिविर बेचने के लिये दिये गये आवेदन की प्रति उपलब्ध है तो उसे सार्वजनिक करें. हमलोग उसकी बिना विलम्ब सैम्पल टेस्ट कराने और तुरंत मंज़ूरी दिलाने की भारत सरकार से पहल करेंगे. इस बीच हम मुख्यमंत्री, उनके सहयोगियों कांग्रेसियों एवं उनके दल झारखंड मुक्ति मोर्चा के लोग इस प्रलयकारी काल में झूठी एवं भ्रामक जानकारी देकर झारखंड की भोली-भाली जनता को कष्ट पंहुचाने से बाज आयें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज