विधानसभा चुनाव से पहले आंतरिक कलह में डूबी कांग्रेस, असंतुष्टों ने दिल्ली में डेरा डाला

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डा अजय कुमार को हटाने की मांग को लेकर झारखंड कांग्रेस के असंतुष्ट नेता इन दिनों दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं. राज्य में अगले 2-3 महीनों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. उधर गठबंधन को लेकर भी कांग्रेस की परेशानियां कम होती नहीं दिख रहीं हैं

Amitesh
Updated: July 26, 2019, 12:21 PM IST
विधानसभा चुनाव से पहले आंतरिक कलह में डूबी कांग्रेस, असंतुष्टों ने दिल्ली में डेरा डाला
झारखंड कांग्रेस के नेताओं ने दिल्ली में डेरा डाला
Amitesh
Updated: July 26, 2019, 12:21 PM IST
झारखंड में अगले दो से तीन महीनों के भीतर विधानसभा चुनाव होने हैं लेकिन उसके पहले कांग्रेस के भीतर मचे घमासान ने पार्टी की संभावनाओं पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं. झारखंड कांग्रेस के बागी गुट के नेता कई दिनों से दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं. कांग्रेस के इन असंतुष्ट नेताओं ने पार्टी महासचिव मुकुल वासनिक और झारखंड के प्रभारी आरपीएन सिंह से मुलाकात कर प्रदेश अध्यक्ष डा अजय कुमार को हटाने की मांग की है. कुछ अन्य असंतुष्ट नेता इससे पहले अहमद पटेल, गुलाम नबी आजाद और केसी वेणुगोपाल से भी मिल चुके हैं. इस बीच पार्टी सूत्रों का कहना है कि जब तक कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर कोई फैसला नहीं हो जाता, तब तक झारखंड को लेकर कोई भी फैसला करना मुश्किल है.

असंतुष्टों ने खोला मोर्चा
बागी गुट के नेताओं अनादि ब्रम्ह, दीपू सिन्हा, सुरेंद्र सिंह और राकेश सिन्हा इन दिनों दिल्ली में हैं, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय के करीबी ये तमाम नेता प्रदेश अध्यक्ष डा अजय कुमार को हटाने की मांग को लेकर दिल्ली में डटे हुए हैं. अनादि ब्रम्ह और सुरेंद्र सिंह ने न्यूज 18 से बातचीत के दौरान लोकसभा चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन को लेकर डा अजय कुमार को हटाने की मांग दोहराई है.

झारखंड कांग्रेस की कलह दिल्ली पहुंची
झारखंड कांग्रेस की कलह दिल्ली पहुंची


इसके पहले प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुबोधकांत सहाय ने भी प्रदेश अध्यक्ष डा अजय कुमार को बाहरी बताकर उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया था. इस बीच झारखंड में पार्टी के दूसरे धड़े राज्यसभा सांसद धीरज साहू के करीबी पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप बालमुचु, पूर्व सांसद ददई दूबे, पूर्व मंत्री बन्ना गुप्ता ने भी इस मामले को लेकर अहमद पटेल, गुलाम नबी आजाद और के सी वेणुगोपाल से मुलाकात की है.

आरपीएन सिंह ने बागियों को चेताया
इस मामले पर जब न्यूज18 ने प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह से मुलाकात की तो उन्होंने कहा कि संगठन के तमाम कार्यकर्ताओं से राय लेने के बाद ही पार्टी कोई फैसला करेगी.आरपीएन सिंह ने ने बागी नेताओं को हिदायत दी है वे मीडिया की बजाए पार्टी फोरम में अपनी बात कहें.
Loading...

चुनौतियों से जूझ रही कांग्रेस
अभी झारखंड में कांग्रेस को एक साथ कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. पहले तो कांग्रेस के भीतर जारी खींचतान को शांत करना है, वहीं जेएमएम और जेएवीएम के साथ संभावित गठबंधन के बारे में भी कोई अंतिम फैसला करना है. कांग्रेस में एक धड़ा राज्य में हेमंत सोरेन की अगुआई में चुनाव लड़ने के खिलाफ है. दूसरी तरफ, एक धड़ा चाहता है कि कांग्रेस प्रदेश के भीतर जेएमएम के बजाए बाकी छोटे दलों के साथ समझौता कर चुनाव मैदान में उतरे. कांग्रेस के भीतर इन सभी बातों पर मंथन चल रहा है. लेकिन, बीजेपी के खिलाफ झारखंड में मैदान में टिके रहने के लिए कांग्रेस को वक्त रहते अपनी नीति और नेता दोनों के बारे में फैसला जल्द से जल्द करना होगा.

ये भी पढ़ें -

बाबा रामदेव की बड़ी जीत! लंबे इंतज़ार के बाद पतंजलि ने खरीद ली ये कंपनी

बेगुनाह ने 23 साल जेल में काटे, घर लौटा तो परिवार में हर किसी की हो चुकी थी मौत
First published: July 26, 2019, 12:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...