Assembly Banner 2021

मुलाकात संभव नहीं तो क्या हुआ, चिट्ठी से लालू तक अपना संदेश पहुंचा रहे RJD नेता

आरजेडी नेताओं की भीड़ को देखते हुए लालू प्रसाद के लिए तीन मजिस्ट्रेटों की तैनाती कर दी गई है. (फाइल फोटो)

आरजेडी नेताओं की भीड़ को देखते हुए लालू प्रसाद के लिए तीन मजिस्ट्रेटों की तैनाती कर दी गई है. (फाइल फोटो)

रांची जिला प्रशासन के द्वारा तीन मजिस्ट्रेट को तैनात कर देने के बाद बिहार से रांची पहुंच रहे राजद नेताओं (RJD Leaders) का लालू (Lalu Yadav) से मुलाकात संभव नहीं हो पा रहा है. ऐसे में ये नेता अब चिट्ठी से उनतक अपना संदेश पहुंचा रहे हैं.

  • Share this:
रांची. बिहार की राजनीति का एक बड़ा हिस्सा इनदिनों रांची में रिम्स निदेशक के आवास के आसपास घूमता नजर आ रहा है. बिहार से पहुंच रहे राजद नेताओं (RJD Leaders) ने अब सख्ती के बाद भी आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव (Lalu Yadav) से मिलने के नए-नए तरीके तलाशना शुरू कर दिये हैं.

दरअसल, रिम्स निदेशक आवास में इलाजरत लालू प्रसाद से मिलना अब काफी मुश्किल हो गया है. लिहाजा पार्टी नेताओं में अपने सुप्रीमो से मिलने और उनतक अपनी बात पहुंचाने की बेचैनी रिम्स परिसर में साफ देखी जा सकती है. तीन मजिस्ट्रेट की तैनाती के बाद राजद नेता अब खुद मिलने के प्रयास के साथ-साथ अपनी बात या संदेश को चिट्ठी के माध्यम से भी पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं. हालांकि कैमरे पर ये नेता चिट्ठी से संदेश पहुंचाने की बात से साफ इनकार करते हैं.

सेवादार के पीछे भागते हैं राजद नेता 



हाल ये है कि लालू प्रसाद के सेवादार इरफान अंसारी जब सब्जी लेकर निदेशक आवास के भीतर प्रवेश करते हैं, तो वहां से निकलने के बाद राजद नेताओं की भीड़ उनके पीछे-पीछे दौड़ पड़ती है. सिर्फ इस उम्मीद में कि शायद सेवादार ही उनका संदेश लालू तक पहुंचा दे. लेकिन हकीकत ये है कि सेवादार इरफान अंसारी की पहुंच निदेशक आवास के भीतर के गेट के पास तैनात मजिस्ट्रेट तक ही हो पाती है. वह सब्जियों को वहीं छोड़कर वापस लौट जाते हैं.
मुलाकात नहीं होने से नेताओं में निराशा

लालू से मिलने की उम्मीद लिए रांची पहुंचे बिहार आरजेडी के जनरल सेक्रेटरी प्रेम प्रकाश शर्मा ने कहा कि मजिस्ट्रेट की तैनाती के बाद अब अपने नेता लालू प्रसाद से मिलना आसान नहीं रहा है. उन्होंने कहा कि मीडिया में बेवजह चिट्ठी और कोरियर के माध्यम से संदेश पहुंचाने वाली भ्रामक खबरों को तूल दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि लोग लालू से मिलने की उम्मीद में पहुंचते हैं, लेकिन निराश होकर लौट जाते हैं.

टिकट के लिए एक मुलाकात जरूरी

उधर ऐसे नेताओं की भी कमी नहीं जिन्होंने लालू से मिलने की आस अभी तक नहीं छोड़ी है. नालंदा विधानसभा सीट की दावेदारी को लेकर पहुंचे राजद नेता रामदेव कुशवाहा ने कहा कि लालू प्रसाद उनके नेता हैं. और बिहार विधानसभा चुनाव में उनके आशीर्वाद के बिना उनकी दावेदारी पक्की नहीं हो सकती. हालांकि उन्होंने कहा कि अभी तक अपने नेता लालू प्रसाद तक उन्होंने पत्र के माध्यम से अपनी बात पहुंचाने का प्रयास नहीं किया है. लेकिन मुलाकात नहीं होने पर वह टिकट के लिए हर संभव कोशिश करेंगे.

बिहारशरीफ विधानसभा सीट की दावेदारी को लेकर पहुंचे सुनील कसेरा ने भी कहा कि लालू तक संदेश पहुंचाना कोई गलत बात नहीं है. कानून के अनुसार जो भी संभव होगा वह किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज