Home /News /jharkhand /

आदिवासी परिवार के 5 लोगों को अरेस्ट कर अज्ञात स्थान पर ले गई पुलिस, बीजेपी ने उठाये सवाल

आदिवासी परिवार के 5 लोगों को अरेस्ट कर अज्ञात स्थान पर ले गई पुलिस, बीजेपी ने उठाये सवाल

बाबूलाल मरांडी ने कहा कि रांची पुलिस की ये कार्रवाई राज्य को कलंकित करने वाली कार्रवाई है.

बाबूलाल मरांडी ने कहा कि रांची पुलिस की ये कार्रवाई राज्य को कलंकित करने वाली कार्रवाई है.

Ranchi News: बाबूलाल मरांडी ने कहा कि पुलिस की कार्रवाई पर मैंने अनगढ़ा थाना से लेकर डीजीपी से बात की, लेकिन कहीं से संतोषजनक उत्तर नहीं मिला. बेदिया परिवार के लोग आखिर कहां हैं, इसकी जानकारी नहीं दी जा रही है.

रांची. रांची के अनगढ़ा थाने की पुलिस 15 अगस्त को जेराडीह गांव के चैता बेदिया के परिवार के पांच लोगों को हिरासत में लेकर अज्ञात स्थान पर ले गई. इनमें दो महिला और दो बच्चे भी शामिल हैं. इस मामले में सियासत गर्म हो गई है. पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) ने कहा कि एक ओर पूरा देश स्वतंत्रता दिवस के दिन आजादी का अमृत महोत्सव माना रहा था, दूसरी ओर आदिवासी परिवार को रांची पुलिस द्वारा अकारण प्रताड़ित किया गया. यह राज्य को कलंकित करने वाली कार्रवाई है.

पूर्व सीएम ने कहा कि पुसमनी कुमारी को मैं व्यक्तिगत तौर पर जनता हूं. वह संत कुलदीप स्कूल की छात्रा है. विगत एक महीना से अपने गांव में रह रही थी. पुलिस की कार्रवाई पर मैंने अनगढ़ा थाना से लेकर डीजीपी से बात की, लेकिन कहीं से संतोषजनक उत्तर नहीं मिला. बेदिया परिवार के लोग आखिर कहां हैं, इसकी जानकारी नहीं दी जा रही है.

बीजेपी नेता ने कहा कि इन बातों से ये स्पष्ट है कि सरकार की नीयत साफ नहीं है. भोले-भाले लोगों को पुलिस द्वारा डराया-धमकाया जाना आम बात हो गई है. राज्य अब जंगलराज में तब्दील हो गया है. राज्य की पुलिस जनता को सुरक्षा नहीं दे रही, बल्कि बेवजह परेशान कर रही है. राज्य सरकार की ऐसी कार्रवाई से राज्य में अराजकता की स्थिति है. पुलिस को जल्द चैता बेदिया के परिवारवालों को रिहा करना चाहिए.

Tags: Babulal marandi, Ranchi Police

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर