Home /News /jharkhand /

गांव-गांव जाकर आदिवासियों के लिए काम करेंगे बीजेपी वर्कर्स, एसटी मोर्चा की बैठक में फैसला

गांव-गांव जाकर आदिवासियों के लिए काम करेंगे बीजेपी वर्कर्स, एसटी मोर्चा की बैठक में फैसला

रांची में बीजेपी एसटी मोर्चा की दो दिवसीय बैठक रविवार को संपन्न हो गई.

रांची में बीजेपी एसटी मोर्चा की दो दिवसीय बैठक रविवार को संपन्न हो गई.

BJP ST Morcha: मोर्चा के अध्यक्ष समीर उरांव ने कहा कि कुछ राजनीतिक पार्टियां जनजातीय समुदाय को भ्रामित करने के लिए सरना कोड जैसा प्रस्ताव ला रही है. पहले ट्राइबल का विकास हो, उसके बाद इस तरह के मुद्दों पर चर्चा करनी चाहिए.

रांची. बीजेपी अनुसूचित जनजाति मोर्चा के कार्यसमिति की दो दिवसीय बैठक रविवार को संपन्न हुआ. इस बैठक में पार्टी के संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने जनप्रतिनिधियों से कहा कि वे फोटो शेषन से ज्यादा समाज के कार्यों पर ध्यान दें. बैठक में ये निर्णय लिया गया कि पार्टी के कार्यकर्ता गांव-गांव जाकर योजनाओं का लाभ आदिवासी समुदाय के लोगों को दिलवाएंगे.

रांची में आयोजित बीजेपी एसटी मोर्चा कार्यसमिति की बैठक में देशभर से 147 नेता उपस्थित हुए थे. इसमे 23 सांसद और मंत्री भी थे. बैठक में महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा हुई. कार्यसमिति का उद्घाटन जहां केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने किया, वहीं इस समापन राष्ट्रीय महामंत्री बीएल संतोष ने किया. कार्यसमिति की बैठक में भी 100 करोड़ वैक्सीनेशन की सफलता की भी गूंज सुनाई दी. और इसको लेकर सभी ने पीएम नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया.

हालांकि इस बैठक में सरना कोड को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई. मोर्चा के अध्यक्ष समीर उरांव ने कहा कि कुछ राजनीतिक पार्टियां जनजातीय समुदाय को भ्रामित कर इस तरह का प्रस्ताव ला रही है. पहले ट्राइबल का विकास हो, उसके बाद इस तरह के मुद्दों पर चर्चा करनी चाहिए. उन्होंने बताया कि जनजातीय समुदाय के जीवन स्तर को उठाने को लेकर संकुल किशोर परिसर विकास योजना बनाई जाएगी. इसमें इलाके के 40 से 50 गांवों को एक साथ कर वहां विकास की गंगा बहाई जाएगी.

शनिवार से शुरू इस दो दिवसीय बैठक में ट्राइबल कमीशन के अधिकार पर भी चर्चा की गई. बैठक में राजनीतिक विषय और ट्रायबल महापुरुषों पर भी चर्चा हुई.

Tags: BJP, Jharkhand news, Ranchi news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर