छत्तीसगढ़ की बसें रांची में फैला रहीं कोरोना! यात्रियों की जांच के लिए बस स्टैंड पर मेडिकल टीम तैनात

रांची बस स्टैंड पर छत्तीसगढ़ से आने वाले यात्रियों की कोरोना जांच की जा रही है.

रांची बस स्टैंड पर छत्तीसगढ़ से आने वाले यात्रियों की कोरोना जांच की जा रही है.

Corona in Ranchi: छत्तीसगढ़ के रायपुर, अंबिकापुर, जशपुर, दुर्ग और भिलाई से रोजाना बसें रांची पहुंचती हैं. जिला प्रशासन इन बसों के यात्रियों की कोरोना जांच के लिए विशेष व्यवस्था रांची बस स्टैंड में की है.

  • Share this:
रांची. झारखंड में लगातार फैलते कोरोना (Corona) ने राज्य सरकार और प्रशासन की नींद उड़ा दी है. सबसे बड़ी बात यह है कि फैलते संक्रमण को लेकर सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस का कोई ठोस असर जमीन पर नहीं दिख रहा. राज्य में कोरोना की दूसरी लहर की एक बड़ी वजह दूसरे राज्यों से पहुंचने वाले यात्रियों को माना जा रहा है. खासकर पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में कोरोना संक्रमण ज्यादा तेजी से फैल रहा है. वहां से हर दिन 8 से 10 बसें राजधानी रांची के आईटीआई बस स्टैंड पहुंच रही हैं.

छत्तीसगढ़ के रायपुर, अंबिकापुर, जशपुर, दुर्ग और भिलाई से रांची रोजाना बसों का सुबह 5 बजे से 10 बजे तक पहुंचना जारी रहता है. ऐसे में प्रशासन के निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक मेडिकल टीम को आइटीआई बस स्टैंड पर गुरुवार सुबह 5 बजे से बिठाने का निर्देश दिया गया है. बावजूद इसके शुक्रवार की सुबह साढ़े सात बजे तक करीब पांच बसें बस स्टैंड पहुंच चुकी थी.

न्यूज 18 की टीम ने जब मेडिकल टीम से यात्रियों की जांच का ब्योरा मांगा. तब रिकॉर्ड में मात्र एक ही यात्री का लिखा नजर आया. रिकॉर्ड से साफ था कि बस स्टैंड में प्रशासन और मेडिकल की मौजूदगी कितनी कारगर है. बस स्टैंड में जैसे ही छठी बस छत्तीसगढ़ के रायपुर से सुबह 8 बजे पहुंची. न्यूज 18 की मौजूदगी में तमाम मेडिकल टीम और प्रशासन अलर्ट मोड में नजर आया. बस से सभी यात्रियों को उतारकर कतार में उनका कोरोना जांच कराया जाने लगा.

यात्रियों ने बताया कि वे छत्तीसगढ़ में मजदूरी का काम करते हैं. लेकिन ज्यादातर मरीजों ने वहां अपना कोरोना टेस्ट नहीं कराया था. इस तरह एक बस के कुल साठ यात्रियों का कोरोना जांच की गयी. सबसे बड़ी बात यह रही कि सुबह से पहुंचे पांच बसों के कुल तीन सौ यात्री बिना जांच के ही अपने घर की ओर रवाना हो गये. इन मजदूरों का न तो कोई पता ठिकाना ही लिया गया और न ही इनका कोई डिटेल्स लिया गया. जाहिर है इन्हीं में से कोई संक्रमित मजूदर अपने आसपास के गांव घरों में अनजाने में ही संक्रमण फैलाएंगे. यही हाल रांची रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट का भी है, जहां मेडिकल टीम मौजूद तो रहती है, लेकिन जांच को लेकर बहुत ज्यादा कारगर साबित नहीं हो पाती.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज