रांची में धड़ल्ले से चल रही है प्रतिबंधित बर्ड्स की खरीद-फरोख्त, वन्यजीव कानून का हो रहा खुलेेआम उल्लंघन

रांची में प्रतिबंधित पक्षियों का अवैध कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है.

रांची में प्रतिबंधित पक्षियों का अवैध कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है.

राजधानी रांची में इन दिनों अवैध तरीके से पक्षियों और छोटे पशुओं को बेचने का काम धड़ल्ले से जारी है. आलम यह है कि खुलेआम चल रहे इस गैरकानूनी कारोबार की जानकारी प्रशासन को होते हुए भी कोई कार्रवाई नहीं की जा रही.

  • Last Updated: March 12, 2021, 5:26 PM IST
  • Share this:
रांची. राजधानी रांची के में इन दिनों अवैध ढंग से पंछियों और छोटे पशुओं को बेचने का काम खुलेआम जारी है. राजधानी के नामकुम और कांटाटोली समेत कई प्रमुख चौक चौराहों पर गैर कानूनी ढंग से प्रतिबंधित सूची में शामिल चिड़ियों को बेचे जाने का नजारा आम है. रांची के नामकुम में जब न्यूज 18 की टीम पहुंची तो आनन फानन में प्रतिबंधित चिड़ियों को छिपाने का काम शुरू हो गया. और हमसे तस्वीरें लेने से रोका भी गया. इनमें विशेषकर लुप्त प्रजाति के कई तोते पिंजरों में बंद थे.

दरअसल जंगलों और दूसरे जगहों से पकड़ी गई है चिड़िया राजधानी के बाजारों में काफी महंगे दामों में बेची जाती है. इनमें प्रतिबंधित सूची में शामिल हिजेंडर तोता, अफ्रीकन ग्रे तोता,  जंगली बटेर, लकवा कबूतर, तीतर, और मोर जैसे पंछी खुलेआम बेचे जा रहे हैं. दरअसल बाजारों में जो पक्षी अवैध तरीके से बेचे जा रहे हैं उनकी कीमत सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे.

प्रतिबंधित सूची में शामिल चिड़ियों को पकड़ना और बेचना वन्यजीव अधिनियम  IUCN के तहत गैर कानूनी है. और इसमें दोषी पाए जाने पर आर्थिक दंड के साथ-साथ सजा का भी प्रावधान है. रांची वेटनरी कॉलेज के डीन डॉ सुशील की मानें तो अवैध चिड़िया कारोबारियों के खिलाफ कार्रवाई बहुत जरूरी है. क्योंकि इससे वन्यजीव कानूनों का सीधा उल्लंघन हो रहा है.

सवाल यह है कि राजधानी में खुलेआम प्रतिबंधित पक्षियों के कारोबार पर रोक क्यों नहीं लग रही. शहर के बींचोबीच चिड़ियों का अवैध व्यापार स्थानीय थाने आओ नजर क्यों नहीं आ रहा. ऐसे में कार्रवाई नहीं होने से स्थानीय पुलिस प्रशासन पर भी सवाल उठने शुरू हो गये हैं.
ये हैं पक्षियों की कीमत 



  1. लव बर्ड्स- 400/ जोड़ा




  2. लकवा कबूतर- 2000/जोड़ा


  3. जंगली बटेर- 180/ जोड़ा


  4. हिजेंडर तोता- 400/ एक


  5. अफ्रीकन ग्रे तोता- 2000/ जोड़ा


  6. फिंच पक्षी- 400/ जोड़ा



अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज