बेरमो और दुमका सीट पर 3 नवंबर को होगा उपचुनाव, हेमंत सरकार के लिए लिटमस टेस्ट

बेरमो सीट कांग्रेस विधायक राजेंद्र सिंह के निधन के कारण खाली हुई, जबकि दुमका सीट सीएम हेमंत सोरेन के छोड़ने के कारण खाली है. (सांकेतिक तस्वीर)
बेरमो सीट कांग्रेस विधायक राजेंद्र सिंह के निधन के कारण खाली हुई, जबकि दुमका सीट सीएम हेमंत सोरेन के छोड़ने के कारण खाली है. (सांकेतिक तस्वीर)

चुनाव आयोग ने झारखंड की दो विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव (By election) का ऐलान कर दिया है. बेरमो (Bermo) और दुमका (Dumka) सीट पर 3 नवंबर को मतदान और 10 नवंबर को परिणाम आएंगे.

  • Share this:
रांची. झारखंड में 3 नवंबर को बेरमो (Bermo) और दुमका (Dumka) विधानसभा सीट पर उपचुनाव (By election) होगा. चुनाव आयोग ने इसका ऐलान कर दिया है. दोनों विधानसभा सीटों पर 3 नवंबर को जहां मतदान होंगे, वहीं कॉउटिंग 10 नवंबर को होगी. चुनाव की घोषणा होते ही दोनों विधानसभा क्षेत्रों के संबंधित जिलों बोकारो और दुमका में आचार संहिता लागू हो गयी है.

उपचुनाव के लिए 09 अक्टूबर को अधिसूचना जारी होगी. 16 अक्टूबर तक नामांकन पर्चा भरा जायेगा. 17 अक्टूबर को नामांकन पत्रों की जांच होगी. 19 अक्टूबर को नामांकन पत्र वापस लिये जा सकेंगे.

उपचुनाव के मद्देनजर चुनाव आयोग ने दोनों सीटों पर तैयारी शुरू कर दी है. दुमका में कुल मतदान केन्द्र 368 हैं. वहीं बेरमो में कुल मतदान केन्द्रों की संख्या 468 है. एक हजार वोटर पर एक मतदान केन्द्र बनाया गया है.



दुमका में कुल मतदाता हैं 247719, जिसमें पुरुषों की संख्या 124750 और महिला मतदाताओं की संख्या 122968 है. दुमका में ट्रांसजेंडर वोटर की संख्या एक है. वहीं बेरमो में कुल मतदाता 311168 हैं, जिसमें पुरुष मतदाता 163676 और महिला मतदाता 147492 हैं.
सत्तापक्ष के लिए लिटमस टेस्ट 

दुमका सीट जेएमएम का गढ़ माना जाता है. वहीं बेरमो सीट पर कांग्रेस का दबदबा रहा है. बेरमो सीट कांग्रेस विधायक राजेंद्र सिंह के निधन के कारण खाली हुआ, जबकि दुमका सीट सीएम हेमंत सोरेन के छोड़ने के कारण खाली है. कोरोना संकट के बीच यह उपचुनाव सत्ता पक्ष के लिटमस टेस्ट साबित होगा. वहीं विपक्ष इस उपचुनाव में अपनी ताकत का एहसास कराने की कोशिश में होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज