Home /News /jharkhand /

स्थानीय नीति पर टली सर्वदलीय बैठक

स्थानीय नीति पर टली सर्वदलीय बैठक

झारखंड में स्थानीय नीति को परिभाषित करने के लिए 30 मार्च को होनेवाली सर्वदलीय बैठक अंतिम समय में टाल दी गई है.अब यह बैठक सात अप्रैल को आयोजित होगी.इसका कारण सरकार की व्यस्तता बताया गया है.झारखंड विधानसभा के बजट सत्र के दौरान सदन में संसदीय कार्यमंत्री सरयू राय ने घोषणा की थी कि स्थानीय नीति सरकार दो महीने में बना लेगी.चलते सत्र में सर्वदलीय बैठक आयोजित करने की बात कही गई थी.

झारखंड में स्थानीय नीति को परिभाषित करने के लिए 30 मार्च को होनेवाली सर्वदलीय बैठक अंतिम समय में टाल दी गई है.अब यह बैठक सात अप्रैल को आयोजित होगी.इसका कारण सरकार की व्यस्तता बताया गया है.झारखंड विधानसभा के बजट सत्र के दौरान सदन में संसदीय कार्यमंत्री सरयू राय ने घोषणा की थी कि स्थानीय नीति सरकार दो महीने में बना लेगी.चलते सत्र में सर्वदलीय बैठक आयोजित करने की बात कही गई थी.

झारखंड में स्थानीय नीति को परिभाषित करने के लिए 30 मार्च को होनेवाली सर्वदलीय बैठक अंतिम समय में टाल दी गई है.अब यह बैठक सात अप्रैल को आयोजित होगी.इसका कारण सरकार की व्यस्तता बताया गया है.झारखंड विधानसभा के बजट सत्र के दौरान सदन में संसदीय कार्यमंत्री सरयू राय ने घोषणा की थी कि स्थानीय नीति सरकार दो महीने में बना लेगी.चलते सत्र में सर्वदलीय बैठक आयोजित करने की बात कही गई थी.

अधिक पढ़ें ...
झारखंड में स्थानीय नीति को परिभाषित करने के लिए 30 मार्च को होनेवाली सर्वदलीय बैठक अंतिम समय में टाल दी गई है.अब यह बैठक सात अप्रैल को आयोजित होगी.इसका कारण सरकार की व्यस्तता बताया गया है.झारखंड विधानसभा के बजट सत्र के दौरान सदन में संसदीय कार्यमंत्री सरयू राय ने घोषणा की थी कि स्थानीय नीति सरकार दो महीने में बना लेगी.चलते सत्र में सर्वदलीय बैठक आयोजित करने की बात कही गई थी.

तीस मार्च की तारीख रख भी दी गई थी, लेकिन रविवार को यह बात स्पष्ट हुई कि सर्वदलीय बैठक अब सात अप्रैल को होगी.तीस मार्च को बजट सत्र का अंतिम दिन है और कैबिनेट की बैठक भी इसी दिन है.इस कारण से भाजपा के अलावा अन्य दलों को थोड़ी परेशानी होती इसलिए तारीख बढ़ाई गई है.भाजपा के प्रवक्ता प्रदीप सिन्हा ने कहा है कि सरकार की मंशा साफ है और बैठक होगी तो सभी दल के प्रतिनिधि भाग लेंगे.

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर