अपना शहर चुनें

States

आपके लिए इसका मतलब: जेएमएम CBI की तारीफ करती है, लेकिन मोदी सरकार की आलोचना, जानिए क्यों?

जेएमएम महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य (फाइल फोटो)
जेएमएम महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य (फाइल फोटो)

झारखंड मुक्ति मोर्चा (Jharkhand Mukti Morcha) जहां एक ओर केंद्रीय जांच एजेंसी CBI की तारीफ तो कर ही है, लेकिन केंद्र की मोदी सरकार को घेरने का कोई मौका भी नहीं छोड़ रही है. ताजा मामला भाजपा सांसद संजय सेठ के पीए की यौन शोषण मामले में गिरफ्तारी का है, जिसके बाद जेएमएम भाजपा पर हमलावर हो गई है...

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 16, 2021, 8:23 PM IST
  • Share this:
रांची. झारखंड मुक्ति मोर्चा (Jharkhand Mukti Morcha) जहां एक ओर केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) की तारीफ करती है तो वहीं केंद्र की मोदी सरकार को घेरने का कोई मौका भी नहीं छोड़ती है। प्रदेश में आज से शुरू हुए कोरोना टीकाकरण अभियान के लिए वैज्ञानिकों को सलाम कर रही है तो झारखंड राज्य लोक सेवा आयोग (JPSC) झारखंड मुक्ति मोर्चा (Jharkhand Mukti Morcha) जहां एक ओर केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) की तारीफ करती है. तो वहीं केंद्र की मोदी सरकार को घेरने का कोई मौका भी नहीं छोड़ती है. में भाजपा की बाबूलाल मरांडी सरकार के समय की गई गड़बड़ियों की जांच कर रही सीबीआई की तारीफ कर रही है, लेकिन जेएमएम केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलने का कोई मौका नहीं छोड़ रही है.

असल में, असल में भाजपा सांसद संजय सेठ की पीए की यौन शोषण मामले में गिरफ्तारी के बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा को भाजपा को घेरने का मौका मिल गया है. जेएमएम ने भाजपा नेताओं की सांसद संजय सेठ के मामले में चुप्पी पर तंज कसा है.


झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने झारखंड में शनिवार से शुरू हुए वैक्सिनेशन को लेकर देश के वैज्ञानिकों सलाम भेजा है. वहीं कोरोनाकाल में झारखंड सरकार ने जिस तरह से सीमित संसाधनों के जरिए बेहतर काम किया, उसे लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को बधाई दी है. सीबीआई को झारखंड राज्य लोक सेवा आयोग (JPSC) का सच बाहर लाने के लिए धन्यवाद भी दिया है. लेकिन सुप्रियो भट्टाचार्य ने BJP और केंद्र की मोदी सरकार पर हमलावर रुख अपनाया है.

BJP सांसद संजय सेठ के PA की यौन शोषण मामले में गिरफ्तारी के मामले पर जेएमएम महासचिव  ने बीजेपी पर वार करते हुए कहा कि पिछले दिनों हुई ओरमांझी हत्याकांड को लेकर बीजेपी ने जिस तरह से सरकार और मुख्यमंत्री पर हमला किया, लेकिन आज वो इस मुद्दे पर चुप क्यों हैं? बीजेपी नेता अब इस मामले में क्यों नही बोल रहे हैं? उन्होंने कहा कि बीजेपी में कई लोग हैं जो स्वामी चिन्मयानंद और सेंगर के चेले हैं। सुप्रियो भट्टाचार्य ने स्पष्ट कहा कि ओरमांझी हत्याकांड के बाद मुख्यमंत्री के काफिले पर हमला किया गया और उनके खिलाफ भाजपा नेताओं ने बोला था, इस पर बीजेपी को मुख्यमंत्री से माफी मांगनी चाहिए.
कोरोना से निपटने पर CM की तारीफ
जेएमएम महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि 16 जनवरी से कोविड संक्रमण के खिलाफ जंग की शुरुआत पूरे देश के साथ झारखंड में भी हो गई है. इसके लिए वैज्ञानिको को धन्यवाद देने के साथ जेएमएम महासचिव ने कहा कि मुख्यमंत्री ने जिस योजनाबद्ध तरीक़े से कोरोना महामारी का सामना किया है वो देश के लिए एक मिसाल है. क्योंकि साढ़े 3 करोड़ की आबादी वाले राज्य में 50 लाख सफल टेस्ट कर देशभर में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है और इस वजह से ही झारखंड देश में टेस्ट के मामले में सातवें स्थान पर है जबकि बिहार सबसे निचले पायदान पर.



इसलिए CBI को धन्यवाद
झारखंड सरकार की उपलब्धियों को बताईं और सीबीआई को धन्यवाद दिया, लेकिन जेएमएम महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला. 2004 में पहली जेपीएससी और 2008 के जेपीएससी में की गई नियुक्तियों को लेकर आई सीबीआई की आई जांच रिपोर्ट पर प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री बाबुलाल मरांडी और तत्कालीन जेपीएससी चेयरमैन को घेरते हुए कहा कि इन दोनों जेपीएससी नियुक्ति मामलों में 55 अभ्यर्थी ऐसे हैं जो इन लोगो के करीबी है या फिर कुछ ऐसे है जिन्हें भ्रष्टाचार के जरिए पास करा दिया गया। वही उन्होने सीबीआई को धन्यवाद देते है कहा कि सीबीआई ने देर से ही सही लेकिन बीजेपी के विषैले फनों की पहचान करने का काम किया.

केंद्र सरकार भी हमला, डीवीसी को भी नहीं छोड़ा
सुप्रियो भट्टाचार्य ने दामोदर घाटी निगम (DVC) को भी आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा कि डीवीसी का 90% इलाका झारखंड में है और महज 10% ही बंगाल में. इसके बावजूद डीवीसी आंखें तरेर रहा है, जो सही नहीं. उन्होंने डीवीसी को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर यहां की सरकार अपनी आंखें मूंद ले तो डीवीसी के लिए मुसीबत हो जाएगी. इसके साथ ही उन्होंने झारखंड के बकाए 86 हजार करोड़ के लैंड रेंट बकाए को लेकर केंद्र सरकार को घेरा. वहीं इसके साथ ही उन्होंने बताया की जब तक सरकार इन काले कानून को नहीं हटाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा. इसके साथ ही उन्होंने किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि झारखंड भी किसान आंदोलन से जल्द जुड़ेगा और किसानों के समर्थन में रैली निकाली जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज