होम /न्यूज /झारखंड /शराब से रेवेन्यू पर रार! झारखंड सरकार और छत्तीसगढ़ की एजेंसी आमने-सामने, जानें पूरा मामला

शराब से रेवेन्यू पर रार! झारखंड सरकार और छत्तीसगढ़ की एजेंसी आमने-सामने, जानें पूरा मामला

उत्पाद विभाग को शराब से अबतक करीब 562 करोड़ का नुकसान हो चुका है (News18 Hindi)

उत्पाद विभाग को शराब से अबतक करीब 562 करोड़ का नुकसान हो चुका है (News18 Hindi)

Jharkhand News: झारखंड में शराब से वर्तमान वित्तीय वर्ष में 2300 करोड़ के राजस्व का लक्ष्य रखा गया है. लेकिन, हालात ऐसे ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

शराब से वर्तमान वित्तीय वर्ष में 2300 करोड़ के रेवेन्यू का लक्ष्य.
नवंबर तक सरकार को महज 1084 करोड़ रेवेन्यू का हासिल.
उत्पाद विभाग को अबतक करीब 562 करोड़ का हुआ नुकसान.

मिली जानकारी के मुताबिक, इस बैठक में एजेंसी को लक्ष्य के हिसाब से काम करने के सख्त निर्देश दिये गये. दरअसल नवंबर तक सरकार को महज 1084 करोड़ रुपये ही रेवेन्यू के तौर पर हासिल हो पाया है. यानी विभाग को अबतक करीब 562 करोड़ का नुकसान हो चुका है.

उत्पाद विभाग के आयुक्त कमलेश्वर प्रसाद सिंह का साफ कहना है कि छत्तीसगढ़ की एजेंसी अपने लक्ष्य से भटक गयी है. उन्होंने कहा कि प्लेसमेंट एजेंसी का अपने अधीन काम करने वाले कर्मचारियों पर से नियंत्रण खत्म हो गया है. उत्पाद आयुक्त ने कहा कि भुगतान बकाया होने की वजह से भी कई समस्याएं आ रही हैं.

OMG! गिरिडीह में जमीन के अंदर से एटीएम मशीन बरामद, पुलिस ने जमीन खोदकर निकाली

वहीं, छत्तीसगढ़ एजेंसी के अधिकारी मीडिया के कैमरे पर आने से बचते हैं. लेकिन मिली जानकारी के मुताबिक, एजेंसी उत्पाद विभाग पर असहयोग का आरोप लगा रही है. एजेंसी के सूत्रों की मानें तो राज्य के जिलों में नकली शराब पर नियंत्रण नहीं होने से एजेंसी को परेशानी हो रही है. साथ ही देसी ब्रांड की पर्याप्त आपूर्ति नहीं होने के कारण बिक्री और रेवेन्यू पर असर पड़ रहा है.

इन तमाम मुद्दों पर झारखंड खुदरा शराब विक्रेता संघ के सचिव और देसी शराब बनाने वाले कंट्री लीकर इस मुद्दे पर खुलकर अपनी राय रखते हैं. झारखंड खुदरा शराब विक्रेता संघ के सचिव सुबोध कुमार जायसवाल की मानें तो मासिक कोटे का उठाव समय पर नहीं किये जाने की वजह से एजेंसी पर अब तक करीब 43 करोड़ रुपये की पेनल्टी लगायी गयी है.

इन सबके बीच राज्यभर के कंट्री लीकर भी अपनी समस्याओं को खुलकर जाहिर करते हैं. कंट्री लीकर की मानें तो राज्य भर में जितनी शराब की जरूरतें हैं. उतनी देसी शराब सप्लाई नहीं हो पा रही है. इसकी सबसे बड़ी वजह राज्य भर के कंट्री लीकर को कम ईडीपी यानि एक्स डिस्टलरी प्राइस मिलना बताया जा रहा है.

Tags: Jharkhand news, Ranchi news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें