Home /News /jharkhand /

city scan and mri ultrasound and xray machines are not working properly in ranchi rims bruk

Ranchi: रिम्स में महीनों से खराब हैं सिटी स्कैन और एमआरआई की मशीनें, मरीजों को हो रही दिक्कत

Jharkhand News: रांची के ट्रॉमा सेंटर में सीटी स्कैन और एमआरआई के लिए अत्याधुनिक उपकरण लगाए गए हैं, लेकिन, मरीजों को जांच के लिए नंबर 7 से 10 दिन बाद का दिया जा रहा है.

Jharkhand News: रांची के ट्रॉमा सेंटर में सीटी स्कैन और एमआरआई के लिए अत्याधुनिक उपकरण लगाए गए हैं, लेकिन, मरीजों को जांच के लिए नंबर 7 से 10 दिन बाद का दिया जा रहा है.

Jharkhand News: रांची स्थित राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स में पिछले कई महीनों से सिटी स्कैन और एमआरआई मशीन खराब चल रही है. यही नहीं अन्य मशीनें भी महीने में करीब 12 से 15 दिन खराब होने की वजह से प्रभावित रहती हैं. वहीं अधिक इस्तेमाल होने वाली अल्ट्रासाउंड मशीन भी खराब होने की कगार पर है.

अधिक पढ़ें ...

रांची. झारखंड की राजधानी रांची स्थित राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स में पिछले कई महीनों से सिटी स्कैन और एमआरआई मशीन खराब चल रही है. यही नहीं अन्य मशीनें भी महीने में करीब 12 से 15 दिन खराब होने की वजह से प्रभावित रहती हैं. वहीं अधिक इस्तेमाल होने वाली अल्ट्रासाउंड मशीन भी खराब होने की कगार पर है. ऐसे में रिम्स पहुंचने वाले मरीजों को किसी भी तरह की जांच कराने में काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है.

बता दें, रांची के ट्रॉमा सेंटर में सीटी स्कैन और एमआरआई के लिए अत्याधुनिक उपकरण लगाए गए हैं, लेकिन, मरीजों को जांच के लिए नंबर 7 से 10 दिन बाद का दिया जा रहा है. शनिवार और रविवार को करीब 72 रोगी एमआरआई और सीटी स्कैन के लिए पहुंचे थे, जबकि सिर्फ 11 की ही जांच की गई, जिन्हें पूर्व में ही जांच के लिए नंबर दिया गया था.

MRI और सिटी स्कैन के लिए करना पड़ता है इंतजार 

अब आप ऐसे में समझ सकते हैं कि एक ओर तो डॉक्टर तत्काल एमआरआई कराने को कह रहे हैं वहीं रिम्स में जांच के लिए एक हफ्ते बाद बुलाया जा रहा है. सप्ताह बाद मरीज की स्थिति और ज्यादा बिगड़ जाएगी, यह रिम्स में जांच की ज़िम्मेदारी संभालने वाले लोग नहीं समझ पा रहे हैं. बता दें, रिम्स में एक्सरे मशीन की हालत भी खस्ता है, फिल्म की लगातार शॉर्टेज रहती है, जिसका परिणाम है कि कई मरीजों का ऑपरेशन रुका हुआ है. फिलहाल न्यूरो विभाग के बाहर 15 से अधिक ऐसे मरीज हैं जानें एमआरआई और सिटी स्कैन की जरूरत है. ऐसे में व्यवस्था के अभाव में मरीज दिन पर दिन गिन रहे हैं.

पीआरओ ने कहा-जल्द ठीक होगी व्यवस्था 

वहीं इस बारे में रिम्स के जनसंपर्क पदाधिकारी डॉ डीके सिन्हा बताते हैं कि पूरी चीजों पर नजर रखी जा रही है. जीबी की बैठक में भी इन चीजों पर चर्चा हुई है. जल्द ही जांच की समस्या दूर हो जाएगी. नई मशीनें लगाने की तैयारी है, लेकिन उन्होंने पूरी व्यवस्था दुरुस्त करने की कोई समय सीमा नहीं बताई.  हजारीबाग से आए अपने बच्चे का इलाज कराने आए किशोर आनंद बताते हैं कि अच्छी स्वास्थ्य सुविधा के लिए यहां आते हैं, लेकिन यहां की व्यवस्था के मार से परेशान है. कहीं ना कहीं रिम्स अपनी विश्वसनीयता को खोता जा रहा है. इतने रुपए खर्च करने के बावजूद यहां मरीजों को अच्छी सुविधा नहीं मिल पा रही है. राज्य सरकार को एवं स्वास्थ्य मंत्री को इस पर संज्ञान लेकर रिम्स की व्यवस्था को ठीक करने पर जोड़ देना चाहिए.

Tags: Jharkhand Government, Jharkhand news, RIMS

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर