Jharkhand Corona News: मोबाइल पर बुक करा सकेंगे बेड और 8595524447 नंबर पर लें डॉक्टर की सलाह

झारखंड में बेड की उपलब्धता के लिए मोबाइल एप और डॉक्टरी सलाह के लिए वॉट्सएप नंबर जारी.

झारखंड में बेड की उपलब्धता के लिए मोबाइल एप और डॉक्टरी सलाह के लिए वॉट्सएप नंबर जारी.

Jharkhand Corona Update: झारखंड में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच मरीजों की सुविधा के लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अमृत वाहिनी वेबसाइट, मोबाइल एप और चैटबोट का लोकार्पण किया.

  • Share this:

रांची. झारखंड में अब कोरोना मरीजों को मोबाइल पर बेड की उपलब्धता और वॉट्सएप नंबर पर डॉक्टरों की सलाह मिल सकेगी. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य में कोविड-19 के लगातार बढ़ रहे संक्रमण के बीच मरीजों के बेहतर इलाज और डॉक्टरी परामर्श के लिए अमृतवाहिनी वेबसाइट, मोबाइल एप और चैटबोट का उद्घाटन किया है. इस सुविधा के बारे में सीएम ने कहा कि कोरोना की रोकथाम को लेकर सरकार लगातार प्रयास कर रही है. इसके लिए ही यह वेब पोर्टल, मोबाइल एप और चैटबोट शुरू किया गया है. इसके जरिये लोग अस्पतालों में ऑक्सीजन बेड और वेंटिलेटर युक्त आईसीयू बेड ऑनलाइन बुक करा सकेंगे. साथ ही व्हाट्सएप चैटबोट से चिकित्सीय परामर्श और कोविड से जुड़ी जानकारी ले सकेंगे.

मुख्यमंत्री ने राज्यवासियों से आग्रह किया कि वे सर्दी, जुकाम और बुखार को हल्के में न लें. यह  कोरोना का लक्षण हो सकता है. अगर किसी में ये लक्षण हैं तो वे तुरंत अपने को आइसोलेट कर लें और टेस्ट कराएं. इससे ना सिर्फ आप अपने को बचा सकते हैं, बल्कि परिवार को भी सुरक्षित रख सकते हैं. उन्होंने कहा कि जानकारी के अभाव में लोग हतोत्साहित हो रहे है. मेरा लोगों से आग्रह है कि वे घबराएं नहीं. सरकार उनकी मदद के लिए पूरी तरह तैयार है.

Youtube Video

वेबसाइट, एप और चैटबोट से मिलेंगी ये सुविधाएं
अमृत वाहनी वेबसाइट और एप- http;//amritvahini.in पर राज्य के सभी सरकारी और  निजी अस्पतालों में कोविड सामान्य बेड, ऑक्सीजन युक्त बेड, आईसीयू बेड और वेंटिलेटर बेडों के उपलब्धता की रियल टाइम जानकारी  मिल सकेगी. इसके साथ बेड की ऑनलाइन बुकिंग की सुविधा भी मिलेगी. जो संक्रमित मरीज आइसोलेशन में हैं, वे इसके जरिए कोरोना मेडिकल किट प्राप्त कर सकते हैं. वहीं, व्हाट्सएप चैटबोट नंबर 8595524447 पर डॉक्टरों की ऑनलाइन सलाह भी ले सकते हैं. इसके साथ दवाओं, डाइट-चार्ट, जिला कंट्रोल रूम से संपर्क, प्लाज्मा दान, होम आइसोलेशन किट से संबंधित जानकारी भी प्राप्त की जा सकती है. अस्पतालों द्वारा रेमडेसिविर दवा की मांग और प्रबंधन की मॉनिटरिंग भी इसके जरिए होगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज