विवादित परीक्षाओं के चलते जेपीएससी के खिलाफ अविश्वास का माहौल- सीएम हेमंत
Ranchi News in Hindi

विवादित परीक्षाओं के चलते जेपीएससी के खिलाफ अविश्वास का माहौल- सीएम हेमंत
मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सदन में जेपीएससी को लेकर तल्ख टिप्पणी की (फाइल फोटो)

छठी जेपीएससी में आरक्षण में गड़बड़ी के प्रदीप यादव के सवाल पर सीएम ने कहा कि सरकार रिजल्ट का आकलन कर फैसला लेगी. सरकार जेपीएससी के लिए नियमावली बनाएगी और उसी के आलोक में जेपीएससी परीक्षा लेगी.

  • Share this:
रांची. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने जेपीएससी (JPSC) को लेकर सदन में तल्ख टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि हर दिन सुबह उठता हूं, तो यही प्रार्थना करता हूँ कि मेरे परिवार से कोई जेपीएससी परीक्षा को लेकर फोन न आए. हर दिन युवा मुझसे कहते हैं, एक फोन कर दीजिए, हम पास हो जाएंगे. जेपीएससी को लेकर राज्य में ऐसा अविश्वास का माहौल बना है.

'जेपीएससी की अधिकतर परीक्षाएं विवादित' 

मुख्यमंत्री विधायक प्रदीप यादव के जेपीएससी से जुड़े सवाल का जवाब दे रहे थे. सीएम ने माना कि जेपीएससी की अबतक की अधिकतर परीक्षाएं विवादित रही हैं. लेकिन सरकार जेपीएससी के कार्यक्षेत्र में हस्तक्षेप नहीं करना चाहती. न तो पूर्व की सरकारें और न ही जेपीएससी ने अपने दायरे को समझा, इसलिए स्थितियां बिगड़ी हैं.



'जेपीएससी के लिए बनेगी नियमावली' 
छठी जेपीएससी में आरक्षण में गड़बड़ी के प्रदीप यादव के सवाल पर सीएम ने कहा कि सरकार रिजल्ट का आकलन कर फैसला लेगी. सरकार जेपीएससी के लिए नियमावली बनाएगी और उसी के आलोक में जेपीएससी परीक्षा लेगी.

विस्थापन आयोग का होगा गठन

बीजेपी विधायक बिरंची नारायण के विस्थापन से जुड़े सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिए जल्द विस्थापन आयोग का गठन होगा. इसमें जनप्रतिनिधियों को भी जगह मिलेगा. अगले पांच साल में विस्थापन की समस्या का समाधान होगा.

बाबूलाल की पहल पर चली सदन की कार्यवाही 

होली के बाद गुरुवार को बजट सत्र फिर से शुरू हुआ. बाबूलाल मरांडी के भरोसा दिलाने के बाद सदन की कार्यवाही पहली बार सुचारू रूप से चली. अबतक सत्र नेता प्रतिपक्ष के मुद्दे पर हंगामे की भेंट चढ़ा था. बाबूलाल मरांडी ने सदन को भरोसा दिलाया कि अब नेता प्रतिपक्ष के मुद्दे पर बीजेपी के विधायक वेल में नहीं जाएंगे. स्पीकर को जो भी फैसला लेना है, वह लें. स्पीकर को जेवीएम का बीजेपी में विलय की जानकारी दे दी गई है.

बता दें कि बीजेपी ने बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष चुना है, लेकिन स्पीकर की ओर उन्हें इसकी मान्यता नहीं मिली है. इस मसले पर अब तक बीजेपी विधायक सदन को चलने नहीं दे रहे थे.

इनपुट- उपेन्द्र कुमार, संजय सिन्हा

ये भी पढ़ें- सीएम हेमंत ने डीवीसी पर जताई नाराजगी, बोले- जिलों में 18 घंटे बिजली काटना दुखद 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज