मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मजदूरों को एयर लिफ्ट कराने में कॉरपोरेट घरानों से मांगी मदद
Ranchi News in Hindi

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मजदूरों को एयर लिफ्ट कराने में कॉरपोरेट घरानों से मांगी मदद
लेह से एयर लिफ्ट होकर रांची एयरपोर्ट पहुंचे मजदूर से बात करते सीएम हेमंत सोरेन

झारखंड देश का पहला और एकलौता ऐसा राज्य है, जो लॉकडाउन में दुर्गम स्थानों पर फंसे मजदूरों (Laborers) को एयर लिफ्ट (Air Lift) कराकर प्रदेश ला रहा है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
रांची. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने दुर्गम स्थानों में फंसे प्रवासी मजदूरों (Migrant Laborers) को प्रदेश वापस लाने में कॉरपोरेट घरानों (Corporate Houses) से मदद मांगी है. उन्होंने इसके लिए ट्विटर पर देश के बड़े कॉरपोरेट हाउसेस को टैग कर आगे आने अपील की है. सीएम ने लिखा है कि हमने प्रवासी कामगारों को लद्दाख और अंडमान जैसे दुर्गम स्थानों से वापस लाने के ईमानदार प्रयास किए हैं. अभी भी हमारे मजदूर दुर्गम स्थानों में फंसे हैं. सभी उद्योगों/ कॉरपोरेट घराना इसमें झारखंड सरकार का सहयोग करें.






मजदूरों को एयर लिफ्ट कराने वाला एकलौता राज्य है झारखंड 


 

झारखंड देश का पहला ऐसा राज्य है, जो लॉकडाउन में दुर्गम स्थानों पर फंसे मजदूरों को एयर लिफ्ट कराकर प्रदेश ला रहा है. राज्य सरकार ने अपने खर्च पर पहले लेह से 60 मजदूर और फिर अंडमान से 180 मजदूरों को एयर लिफ्ट कराकर प्रदेश वापस लाया है. अभी भी सैकड़ों झारखंडी मजदूर अंडमान और उत्तर-पूर्वी राज्यों के दुरूह इलाकों में फंसे हुए है. इन मजदूरों की भी एयर लिफ्टिंग की तैयारी में सरकार जुटी हुई है. सबसे पहले नेशनल लॉ स्कूल बेंगलुरु के छात्रों ने 11 लाख रुपये चंदा कर मुंबई से 174 झारखंड मजदूरों को रांची भेजा.

बस-ट्रेन से 4 लाख से ज्यादा मजदूरों को हुई है वापसी 

हवाई जहाज के अलावा झारखंड सरकार केंद्र सरकार के सहयोग से ट्रेन और बसों के जरिए भी प्रवासी मजदूरों को प्रदेश वापस ला रही है. इन माध्यम से अबतक 4 लाख से ज्यादा प्रवासी मजूदर प्रदेश लौट चुके हैं. इनमें से 193 ट्रेन से 2 लाख 57 हजार 411 और बसों से 1.08 लाख मजदूर वापस आए हैं.

राज्य के कोरोना नोडल पदाधिकारी अमरेंद्र प्रताप सिंह और आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव अमिताभ कौशल  के मुताबिक वंदे भारत मिशन के तहत अबतक 66 लोगों को विदेश से भी वापस लाया जा चुका है. सरकार की ओर से बांग्लादेश में काम करने वाली भेल कंपनी के 170 कर्मचारियों को वापस लाने के लिये एनओसी दे दी गई है. नेपाल में भी कुछ लोग फंसे हुए हैं. इसके अलावा देश के विभिन्न राज्य में जो लोग रह गए हैं. उन्हें फिर से सरकार ने रजिस्ट्रेशन कराने के लिए कहा है. इसके बाद उन्हें वापस लाने के उपाए किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें- कांग्रेस MLA अंबा प्रसाद ने Lockdown की धज्जियां उड़ाते हुए की जनसभा

 

 

 

 
First published: June 1, 2020, 3:49 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading