झारखंड में लॉकडाउन और बढ़ेगा या खुलेगा? 1 जून को सीएम हेमंत सोरेन करेंगे बड़ा ऐलान

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन लॉकडाउन को लेकर मंगलवार को बड़ा फैसला करेंगे.

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन लॉकडाउन को लेकर मंगलवार को बड़ा फैसला करेंगे.

आपदा प्रबंधन विभाग की हाई लेवल मीटिंग 1 जून को होगी और इस मीटिंग के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Chief Minister Hemant Soren) लॉकडाउन के संबंध में बड़ा फैसला कर सकते हैं. इस बैठक से पहले जानिए कि आपको क्या राहतें मिल सकती हैं.

  • Share this:

रांची. झारखंड में कोविड 19 संक्रमण के चलते आगामी 3 जून की सुबह तक लॉकडाउन के आदेश हैं यानी तब तक कड़ी पाबंदियां लागू हैं. लेकिन सवाल यह है कि क्या इसके बाद लॉकडाउन और आगे खिसकाया जाएगा या फिर लोगों को राहत मिलेगी. तो आपके लिए अच्छी खबर यह है कि लॉकडाउन से बड़ी राहत मिल सकती है. बहुत जल्दी इस बारे में सीएम हेमंत सोरेन या झारखंड सरकार बड़ा ऐलान कर सकती है. बताया जा रहा है कि ई-पास का चक्कर भी खत्म होने जा रहा है.

झारखंड सरकार का मानना है कि कोरोना संक्रमण तकरीबन काबू में कर लिया गया है. यही नहीं, ग्रामीण इलाकों में भी सरकार के अंदेशे से काफी कम संक्रमण का आकलन हुआ. खबरों में कहा जा रहा है कि तेज़ी से घट रहे मामलों के मद्देनज़र राज्य सरकार लोगों को राहत देने पर विचार कर रही है और इस मीयाद के बाद लॉकडाउन आगे बढ़ाए जाने के आसार न के बराबर हैं.

क्या और कितनी राहत देगी सरकार?

सबसे पहले तो ई-पास से लोगों को निजात मिल सकती है और कहा जा रहा है कि सरकार ज़िलों के अंदर बसें चलाए जाने का रास्ता भी साफ कर सकती है. कोरोना की चेन टूटने की बात सरकारी गलियारों में कही जा रही है, जिसके मद्देनज़र अन्य राज्यों तक चलने वाली बसों को भी राहत दी जा सकती है. हालांकि इस बारे में प्रोटोकॉल और गाइडलाइन्स लागू रहने की भी उम्मीद है.

bihar jharkhand news, jharkhand samachar, corona in jharkhand, lockdown in jharkhand, बिहार झारखंड न्यूज़, झारखंड समाचार, झारखंड में कोरोना, झारखंड लॉकडाउन
झारखंड में लॉकडाउन से राहत मिलने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें : खाट पर लादकर मरीज को लाए गांव, कोरोना के चलते नहीं मिला इलाज तो बैरंग लौटे आदिवासी

क्या कह रहे हैं आंकड़े?



शनिवार को राज्य में कोरोना के नए केसस 823 आए तो वहीं, 1647 मरीज़ रिकवर हुए. पॉज़िटिविटी रेट 2 प्रतिशत से भी कम दर्ज हुआ क्योंकि 54,289 टेस्ट किए गए, जिनमें से 800 के करीब लोग ही पॉज़िटिव पाए गए. राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के इन आंकड़ों के बाद अब झारखंड में एक्टिव केसों की संख्या करीब 10,000 है जबकि रांची में 3000 से कम.

ये भी पढ़ें : स्टोर में बेकार पड़े सिलेंडरों में लगाई जुगाड़ और बना दिया ऑक्सीजन फ्लोमीटर!

दूसरी तरफ, ग्रामीण इलाकों में जो स्वास्थ्य सर्वे करवाया गया, खबरों के मुताबिक उसमें काफी कम संक्र​मण होने का खुलासा हुआ. कोरोना से मौतों पर भी काबू पा लिये जाने के दावे हैं. सीएम सोरेन ने इसे सरकार की उपलब्धि बताते हुए कहा कि अब उनकी सरकार तीसरी लहर से लड़ने के लिए कमर कस रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज