निशिकांत दुबे के ट्वीट से खफा हुए CM हेमंत, 48 घंटे में कानूनी कार्रवाई की दी चेतावनी

पिछले कुछ दिनों से सीएम हेमंत सोरेन और बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे में ट्विटर वार छिड़ा हुआ है.

निशिकांत दुबे (Nishikant Dubey) ने लिखा,'मुंबई शहर में 2013 में झारखंड के तत्कालीन सीएम हेमंत सोरेन (Hemant Soren) जी पर एक लड़की ने बलात्कार, अपहरण के आरोप लगाए, सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश के अनुसार समझौते से भी यह आरोप बंद नहीं हो सकता.'

  • Share this:
रांची. महामारी के इस दौर में जहां एक तरफ कोरोना (Corona) के खिलाफ जंग जारी है, वहीं दूसरी तरफ गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे (Nishikant Dubey) और राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) के बीच ट्विटर वार तेज है. गोड्डा सांसद ने ट्विटर पर अपने ताजा हमले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर एक लड़की के आरोप के हवाले से दुष्कर्म (Rape) और अपहरण (Kidnapping) के आरोप लगाये हैं. मामला 2013 का है और मुंबई से जुड़ा हुआ है.

गोड्डा सांसद ने ट्विटर पर बकायदा महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख को संबोधित करते हुए लिखा, 'मुंबई शहर में 2013 में झारखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी पर एक लड़की ने बलात्कार, अपहरण के आरोप लगाए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार समझौते से भी यह आरोप बंद नहीं हो सकता.'



बीजेपी सांसद ने इस संबंध में महाराष्ट्र के गृहमंत्री को पत्र लिखकर इस मामले की जांच दोबारा कराने का आग्रह किया है.



इधर, सांसद के इस आरोप के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर निशिकांत दुबे को जवाब दिया. मुख्यमंत्री ने लिखा,'माननीय सांसद निशिकांत दुबे जी ने मुझपर कुछ आरोप लगाये हैं. माननीय सांसद जी इसका जवाब आपको अगले 48 घंटे में कानूनी रूप से दिया जाएगा. देश और राज्यवासियों को अपने आचरण के अनुरूप गुमराह करना बंद करें.'



सीएम के कानूनी कार्रवाई वाले जवाब के बाद गोड्डा सांसद ने उन्हें रिप्लाई करते हुए ट्विटर पर लिखा कि इंतजार रहेगा, मैंने नहीं लड़की ने आरोप लगाया है.

वहीं जेएमएम ने भी ट्विटर पर गोड्डा सांसद पर हमला बोला. पार्टी ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि माननीय सांसद निशिकांत दुबे के कुकर्मों की परत दर परत खुलकर जनता के समक्ष आने लगी है. कभी एक असहाय व्यक्ति से अपने पैर धुलवाने वाले सांसद महोदय दूसरों पर अनर्गल आरोप लगा रहे हैं. जेएमएम ने सांसद के पीएचडी की डिग्री पर भी सवाल उठाते हुए दिल्ली विवि की ओर से सीआइडी को लिखे गये पत्र को टैग कर दिया है.

फिलहाल पूरा मामला ट्विटर वार से आगे बढ़ते हुए कानून के दरवाजे तक पहुंचता दिखाई दे रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.