नई विधानसभा के विशेष सत्र में विशेष घोषणा, PM के जन्मदिन को सेवा दिवस के रूप में मनाएगी झारखंड सरकार

सदन में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने पीएम मोदी के जन्मदिन 17 सितम्बर को सेवा दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की. और कहा कि उस दिन राज्य में 1600 किलोमीटर ग्रामीण सड़कों का प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत शिलान्यास होगा.

News18 Jharkhand
Updated: September 13, 2019, 8:03 PM IST
नई विधानसभा के विशेष सत्र में विशेष घोषणा, PM के जन्मदिन को सेवा दिवस के रूप में मनाएगी झारखंड सरकार
नई झारखंड विधानसभा में एक दिवसीय विशेष सत्र का आयोजन हुआ
News18 Jharkhand
Updated: September 13, 2019, 8:03 PM IST
रांची. विकास की नई ऊंचाई को पाने के संकल्प के साथ शुक्रवार को नये विधानसभा भवन में राज्य की चौथी विधानसभा का समापन हो गया. नये विधानसभा भवन में आयोजित एक दिवसीय विशेष सत्र में जहां सत्तापक्ष सरकार की उपलब्धि गिनाते हुए नजर आया, वहीं प्रमुख विपक्षी दल जेएमएम ने सदन से दूरी बना ली. हालांकि कांग्रेस और वामदल ने सरकार को जरूर आइना दिखाया. 19 वर्षों के बाद झारखंड को अपना विधानसभा भवन मिला है. गुरुवार को पीएम मोदी ने इसका उद्घाटन किया. जिसके बाद शुक्रवार को नये विधानसभा भवन में विशेष सत्र बुलाया गया.

विशेष सत्र की शुरुआत राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू के अभिभाषण से हुई. सदन को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने राज्य सरकार की उपलब्धि गिनाते हुए नये विधानसभा भवन के लिए शुभकामनाएं दी. अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस नये विधानसभा भवन के सेंट्रल हॉल में करीब ढाई घंटे विशेष सत्र चली. इस दौरान स्पीकर दिनेश उरांव, मुख्यमंत्री रघुवर दास और उपस्थित विधायक ने सदन को संबोधित किया. इस दौरान मुख्यमंत्री रघुवर दास ने पीएम मोदी के बर्थडे 17 सितम्बर को सेवा दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की. और कहा कि उस दिन राज्य में 1600 किलोमीटर ग्रामीण सड़कों का प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत शिलान्यास होगा. जिस पर 1037 करोड़ खर्च होंगे.

एक नजर में चौथी विधानसभा

चौथी विधानसभा के कार्यकाल में 17 सत्र में 127 कार्य दिवस हुए

6 अवसरों पर राज्यपाल ने सदन को संबोधित किया
130 विधेयक सदन में लाये गये, जिसमें 127 पारित हुए
विधायकों से 9455 प्रश्न सदन में लाये गये, जिनमें से 2118 अल्पसूचित, 6051 तारांकित और 1086 अतारांकित रूप में स्वीकार किये गये.
Loading...

506 मौखिक उत्तर सदन में सरकार की ओर से दी गई, अन्य लिखित रूप से विधायकों को मिला
शून्यकाल के दौरान 1945 सूचनाएं प्राप्त हुई, जिनमें से 1907 को स्वीकृति दी गई

आम तौर पर हल्ला और हंगामे की भेंट चढ़ने वाली सदन की कार्यवाही विशेष सत्र के दौरान बेहद ही खुशनुमा माहौल में गुजरी. जेएमएम की गैरहाजिरी में कांग्रेस और जेवीएम विधायकों ने प्रमुख विपक्ष की भूमिका निभाते दिखे. न्यायिक हिरासत में सदन की कार्यवाही में भाग लेने आये जेवीएम विधायक प्रदीप यादव ने सरकार को आड़े हाथों लिया. वहीं कांग्रेस की ओर से आलमगीर आलम, इरफान अंसारी और सुखदेव भगत ने सदन में सरकार की विफलताओं गिनाई.

झारखंड के गठन के बाद से विधानसभा किराये के भवन में चल रही थी. लेकिन 19 साल बाद झारखंड को अब अपना विधानसभा भवन मिला गया है.

रिपोर्ट- भुवन किशोर झा

ये भी पढ़ें- झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए जेडीयू को मिला नया चुनाव चिह्न 'ट्रैक्टर पर बैठा किसान'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 8:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...