झारखंड में महिलाएं बन रहीं मिट्टी की डॉक्टर, किसानों को खेती में करेंगी मदद

Naween Jha | News18 Jharkhand
Updated: August 21, 2019, 11:43 PM IST
झारखंड में महिलाएं बन रहीं मिट्टी की डॉक्टर, किसानों को खेती में करेंगी मदद
सीएम रघुवर दास ने 16 महिलाओं को मिट्टी की डॉक्टर सम्मान से सम्मानित किया

सीएम रघुवर दास ने 16 महिलाओं को मिट्टी की डॉक्टर सम्मान से सम्मानित किया. इन महिलाओं को मिट्टी जांच किट भी दिया गया. इस किट के जरिये ये महिलाएं वैज्ञानिक तरीके से खेत की बीमारियों का पता लगाएंगी और किसानों को मिट्टी को स्वस्थ बनाने के उपाय भी बताएंगी.

  • Share this:
रांची के खेलगांव स्थित टाना भगत स्टेडियम में मिट्टी के डॉक्टर सम्मान और मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरण समारोह का आयोजन हुआ. इस समारोह का उद्घाटन मुख्यमंत्री रघुवर दास (CM Raghuvar Das) ने किया. इस दौरान उन्होंने 16 महिलाओं को मिट्टी की डॉक्टर (Soil Doctor) सम्मान से सम्मानित किया. इन महिलाओं को मिट्टी जांच किट भी दिया गया. इस किट के जरिये ये महिलाएं वैज्ञानिक तरीके से खेत की बीमारियों का पता लगाएंगी और किसानों को मिट्टी को स्वस्थ बनाने के उपाय भी बताएंगी. सीएम ने कहा कि आज से पूरी दुनिया इन दीदियों को मिट्टी की डॉक्टर के तौर पर जानेगी. ये किसानों के खेत की मिट्टी की जांच कर उन्हें फसल उगाने में मदद करेंगी.

किसान के साथ हर मोर्चे पर खड़ी है सरकार 

सीएम ने कहा कि पिछले चार साल में किसानों की मेहनत से राज्य के कृषि विकास दर में रिकॉर्ड बढ़ोतरी हुई है. साढ़े 4 साल पहले कृषि फसल विकास दर -4.5 फीसदी था, जबकि पिछले साढ़े चार साल में यह दर 14 फीसदी तक पहुंच चुका है.

सीएम ने कहा कि मिट्टी, पानी, कर्ज, बीमा, फसल की बिक्री और कृषि की उन्नत तकनीक पर हमारी सरकार काम कर रही है. किसानों को हर तरह की मदद मुहैया कराई जा रही है. सरकार हर पल किसानों के साथ है.

cm raghuvar das
सीएम रघुवर दास ने मिट्टी की डॉक्टर दीदियों के साथ खाना भी खाया


हर पंचायत में 2 मिट्टी की डॉक्टर होंगी 

सीएम ने कहा कि अगर एक दीदी एक दिन में स्वयं 3 खेत की जांच करती है, तो महीने में उनकी आमदनी 14 हजार रुपए होगी. राज्य के हर पंचायत से 2-2 महिलाओं को ट्रेनिंग दी जाएगी और इस तरह झारखण्ड में 8734 मिट्टी की डॉक्टर बनाने का लक्ष्य रखा गया है. राज्य में पंचायत स्तर पर 3164 प्रयोगशालाओं की स्थापना हो चुकी है और 1203 प्रयोगशालाओं की स्थापना की जा रही है. हमारी ग्रामीण बहनों को रोजगार भी मिलेगा और मान-सम्मान की जिंदगी भी मिलेगी.
Loading...

झारखंड ने फिर रचा इतिहास

बतौर सीएम झारखण्ड की महिलाएं मेहनती हैं. खासकर आदिवासी महिलाओं ने खेती, व्यापार, सिलाई-बुनाई, बकरी पालन, अंडा उत्पादन और शौचालय निर्माण में पूरे देश के सामने मिसाल पेश की है. झारखण्ड की महिलाओं ने आज इतिहास रच दिया. देश में पहली बार महिलाएं मिट्टी की डॉक्टर बन रही हैं. किसानों और राज्य की समृद्धि में अहम भूमिका निभा रही हैं.

ये भी पढ़ें- मोमेन्टम झारखंड में खर्च और निवेश पर श्वेत पत्र जारी करे सरकार- बाबूलाल मरांडी

ये है झारखंड की सबसे बड़ी आफत! हर साल होती है 200 लोगों की मौत 

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 11:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...