अपना शहर चुनें

States

रांची में पाइप लाइन से घरों में पहुंचने लगा गैस, 3 CNG स्टेशनों का भी उद्घाटन

सीएम रघुवर दास ने रांची में सिटी गैस पाइप लाइन योजना का किया शुभारंभ
सीएम रघुवर दास ने रांची में सिटी गैस पाइप लाइन योजना का किया शुभारंभ

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने धुर्वा के प्रभात तारा मैदान में सिटी गैस पाइप लाइन योजना की शुरुआत की. साथ ही तीन सीएनजी रिफीलिंग स्टेशनों का भी उन्होंने उद्घाटन किया.

  • Share this:
रांची में आज से पाइप लाइन के जरिये घरों में गैस (Piped Natural Gas) पहुंचने लगा है. साथ ही सीएनजी (CNG) से चलने वाली गाड़ियां भी सड़कों पर दौड़ने लगी हैं. शुरुआत में राजधानी के डोरंडा, ओरमांझी और मधुकम में सीएनजी रिफीलिंग सेंटर खोले गये हैं. मुख्यमंत्री रघुवर दास (CM Raghuvar Das) ने धुर्वा के प्रभात तारा मैदान में सिटी गैस पाइप लाइन योजना की शुरुआत की. साथ ही तीन सीएनजी रिफीलिंग स्टेशनों का भी उन्होंने उद्घाटन किया. कार्यक्रम में गेल के जोनल कार्यालय और हरमू मुक्तिधाम में गैस शवदाह गृह का भी शिलान्यास हुआ.

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि केंद्र और राज्य की डबल इंजन सरकार राज्य के हर नागरिक को उच्च स्तरीय सुविधा मुहैया कराने के लिए संकल्पित है. लेकिन महिलाओं के विकास के बिना हर विकास अधूरा है. इसलिए राज्य सरकार ने महिला सशक्तिकरण के लिए कई योजनाएं जमीन पर उतारी हैं.

दीदियां वसूलेंगी गैस का बिल



इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने चतरा में इस्पात कारखाना खोलने की घोषणा की. और सिंदरी के कारखाना को सीएनजी से चलाने की बात कही. केद्रीय मंत्री ने कहा कि रांची के डेढ़ लाख घरों में पाइप लाइन के माध्यम से गैस पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है. गैस के बिल कलेक्शन का काम प्राइवेट एजेंसी नहीं, बल्कि स्वंय सहायता समूह की दीदियां करेंगी. इसके बदले में उन्हें हर महीने कमाई होगी.
13 जिलों में होगी गैस पाइप लाइन सेवा 

झारखंड में गैस की पाइप लाइन 16 जिलों से होकर गुजरती है. इनमें से राजधानी रांची समेत 13 जिलों में पाइप लाइन के जरिये सीधे किचन तक गैस पहुंचाने की योजना है. लगभग साढ़े चार सौ करोड़ की इस योजना का काम तेजी से चल रहा है. इस योजना के तहत घरों तक एलपीजी की सप्लाई, सीएनजी का वाहनों और उद्योगों में इस्तेमाल में मुख्य लक्ष्य है.

ये भी पढ़ें- मुख्यमंत्री रघुवर दास ने 16 BPO-BPM कंपनियों का किया उद्घाटन, बोले- 15 हजार युवाओं को मिलेगी नौकरी

झारखंड में महिलाएं बन रहीं मिट्टी की डॉक्टर, किसानों को खेती में करेंगी मदद

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज