'...अब ट्रिपल तलाक की पीड़ा झेल रही मुस्लिम बहनों को मिलेगा न्याय'

राज्यसभा ने मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक देने की प्रथा पर रोक लगाने के प्रावधान वाले एक ऐतिहासिक विधेयक को मंगलवार को मंजूरी दे दी. विधेयक में तीन तलाक का अपराध सिद्ध होने पर संबंधित पति को तीन साल तक की जेल का प्रावधान किया गया है.

News18 Jharkhand
Updated: July 31, 2019, 11:49 AM IST
'...अब ट्रिपल तलाक की पीड़ा झेल रही मुस्लिम बहनों को मिलेगा न्याय'
सीएम रघुवर दास (फाइल फोटो)
News18 Jharkhand
Updated: July 31, 2019, 11:49 AM IST
राज्यसभा से तीन तलाक बिल पास होने के बाद देशभर से इसपर प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने ट्वीट कर कहा कि अब ट्रिपल तलाक की पीड़ा झेल रही मुस्लिम बहनों को न्याय और सम्मान की जिंदगी का हक मिलेगा. सीएम ने इसे ऐतिहासिक बताते हुए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया.



बिल से बंद होगा अत्याचार- बीजेपी 
Loading...

रांची पहुंचे बीजेपी के महामंत्री कमलावती सिंह ने भी इसका स्वागत किया. उन्होंने कहा कि इस बिल से मुस्लिम महिलाएं सशक्त होंगी. सूबे के नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि इस बिल की वजह से मुस्लिम समुदाय की महिलाओं पर अत्याचार बंद होगा.

मुस्लिम महिलाओं की मिलीजुली प्रतिक्रिया

वहीं रांची की मुस्लिम महिलाओं की इस पर मिलीजुली प्रतिक्रिया रही. कुछ ने केन्द्र सरकार के इस प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि इस बिल से वे संबल होंगी, तो कुछ ने इसके खिलाफ आवाज उठाते हुए कहा कि सरकार को धार्मिक मामलों में दखलंदाजी नहीं करनी चाहिए.

राज्यसभा ने पास किया ट्रिपल तलाक बिल  

बता दें कि राज्यसभा ने मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक देने की प्रथा पर रोक लगाने के प्रावधान वाले एक ऐतिहासिक विधेयक को मंगलवार को मंजूरी दे दी. विधेयक में तीन तलाक का अपराध सिद्ध होने पर संबंधित पति को तीन साल तक की जेल का प्रावधान किया गया है. मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक को राज्यसभा ने 84 के मुकाबले 99 मतों से पारित कर दिया. लोकसभा इसे पहले ही पारित कर चुकी है.

रिपोर्ट- ओमप्रकाश

ये भी पढ़ें- हेमंत बोले- किसान लखन महतो को सिस्टम ने मरने पर मजबूर किया

बारिश के अभाव में सूख रहा था धान का बिचड़ा, परेशान किसान ने घर में कर ली खुदकुशी
First published: July 31, 2019, 11:48 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...