Jharkhand News: किसान आंदोलन के सहारे मिशन बंगाल में उतरेगी कांग्रेस, JMM का साथ किया खारिज

कांग्रेस बंगाल चुनाव अकेले दम पर लड़ने का विचार बना रही है.

कांग्रेस बंगाल चुनाव अकेले दम पर लड़ने का विचार बना रही है.

झारखंड (Jharkhand) में सरकार में शामिल कांग्रेस बंगाल चुनाव में अकेले उतरने का मन बना रही है. झारखंड में कांग्रेस के मुखिया रामेश्वर उरांव (Rameshwar Oraon) ने कुछ साफ तो नहीं किया लेकिन वो किसान आंदोलन के सहारे बंगाल में दम दिखाने की कोशिश में हैं.

  • Share this:

रांची. झारखंड (Jharkhand) में सरकार में शामिल कांग्रेस ने बंगाल चुनाव में अपनी चमक और धमक बढ़ाने की कोशिश में अपनी पुरजोर ताकत लगा दी है. इस वजह से कांग्रेस नेताओं का दिल्ली दौरा भी शुरू हो चुका है. इसके अलावा किसान आंदोलन (Kisan Andolan) के सहारे भी कांग्रेस अपने नैया को पार कराने में तेजी से जुटी है. झारखंड में कांग्रेस के मुखिया रामेश्वर उरांव (Rameshwar Oraon) के दिल्ली दौरे में बंगाल चुनाव को लेकर गठबंधन की राजनीति पर एक नई बहस छेड़ दी है. दिल्ली में कांग्रेस के जनरल सेक्रेटरी केसी वेणुगोपाल से मुलाकात कर कृषि मंत्री बादल पत्रलेख के साथ रांची लौटे मंत्री रामेश्वर उरांव ने बताया कि कांग्रेस बंगाल और असम चुनाव को लेकर खुद को मजबूत करने की कोशिशों में जुटी है. इसको लेकर आलाकमान से बकायदा झारखंड कांग्रेस को टास्क मिल चुका है.

न्यूज़ 18 ने जब उनसे पूछा कि क्या बंगाल चुनाव में जेएमएम के साथ भी गठबंधन का इरादा है. इस पर मंत्री रामेश्वर उरांव ने इंकार करते हुए कहा कि इस संबंध में फैसला पार्टी आलाकमान की ओर से लिया जाएगा, लेकिन प्रदेश कांग्रेस कप्तान के बयान से इतना साफ था कि राष्ट्रीय पार्टी बंगाल चुनाव में किसी क्षेत्रीय दल के साथ हिस्सेदारी करने को तैयार नहीं है. जबकि गाजियाबाद बॉर्डर पर किसान आंदोलन में शामिल होकर लौटे कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ज्यादा उत्साहित नजर आए. उन्होंने कहा कि संथाल परगना की तरह ही जल्द ही हजारीबाग और पलामू में किसान आंदोलन की रणनीति तय की जाएगी. इसको लेकर गुरुवार को रांची में कांग्रेस की एक बैठक बुलाई गई है.

दरअसल कांग्रेस किसान आंदोलन की राजनीति को प्रदेश में ज्यादा से ज्यादा हवा देकर बंगाल में इसे भुनाना चाहती है. लिहाजा झारखंड में किसानों की खामोशी को राजनीतिक तूल देकर उसे जबरन जगाने की कोशिश की जा रही है, ताकि पड़ोस के बंगाल चुनाव में इसका फायदा मिल सके.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज