लाइव टीवी

सीटी स्कैन मशीन की खरीद को लेकर रिम्स में विवाद, निदेशक और रेडियोलॉजी विभागाध्यक्ष आमने-सामने
Ranchi News in Hindi

News18 Jharkhand
Updated: February 27, 2020, 5:56 PM IST
सीटी स्कैन मशीन की खरीद को लेकर रिम्स में विवाद, निदेशक और रेडियोलॉजी विभागाध्यक्ष आमने-सामने
रिम्स में पिछले एक साल से सीटी स्कैन मशीन खराब है

रेडियोलॉजी विभाग के अध्यक्ष की ओर से 256-स्लाइड की सीटी स्कैन मशीन की खरीदारी के सुझाव दिये गये हैं. जबकि रिम्स निदेशक 128-स्लाइड वाली सीटी स्कैन मशीन का सिमंस कंपनी को ऑर्डर दिया है.

  • Share this:
रांची. सीटी स्कैन मशीन (CT Scan Machine) की खरीदारी को लेकर रिम्स (RIMS) के निदेशक और रेडियोलॉजी विभाग के अध्यक्ष आमने-सामने (Controversy) हो गये हैं. दोनों एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप मढ़ने में जुटे हैं. निदेशक डॉ. दिनेश कुमार सिंह ने बुधवार को प्रेस विज्ञप्ति जारी कर डॉ. सुरेश टोप्पो पर कई गंम्भीर आरोप लगाए गए थे. बदले में गुरुवार को ट्राइबल मेडिकल एसोसिएशन (Tribal Medical Association) ने बैठककर निदेशक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने का फैसला लिया.

रिम्स में सीटी स्कैन मशीन पिछले एक साल से खराब है. जिसके चलते रिम्स के मरीजों को या प्राइवेट या फिर कैंपस में पीपीपी मोड पर चल रहे निजी एजेंसी के सेंटर में सीटी स्कैन कराना पड़ता है. इस वजह से अस्पताल को आर्थिक नुकसान भी हो रहा था. साथ ही रेडियोलॉजी विभाग में पीजी की पढ़ाई भी प्रभावित हो रही है.

विवाद का ये है कारण

रेडियोलॉजी विभाग के अध्यक्ष की ओर से 256-स्लाइड की सीटी स्कैन मशीन की खरीदारी के सुझाव  दिये गये हैं. जबकि रिम्स निदेशक 128-स्लाइड वाली सीटी स्कैन मशीन का सिमंस कंपनी को ऑर्डर दिया है. बुधवार को रिम्स निदेशक ने एक विज्ञप्ति जारी कर रेडियोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ. सुरेश टोप्पो पर गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि रिम्स की मूलभूत सुविधाओं को बढ़ाने में डॉ. टोप्पो अड़ंगा डाल रहे हैं और प्राइवेट सेक्टर को लाभ पहुंचा रहे हैं. इसके जवाब में डॉ. टोप्पो ने कहा कि रिम्स निदेशक को यह बताना चाहिए कि 12 साल पुरानी (2008 मॉडल) आउटडेटेड सीटी स्कैन मशीन खरीदने में किसका फायदा होगा. वह भी एक नहीं दो-दो.



डॉ. सुरेश टोप्पो के समर्थन में आया टीएमए

गुरुवार को डॉ सुरेश टोप्पो के समर्थन में टीएमए ने रिम्स अधीक्षक डॉ विवेक कश्यप के साथ बैठक की. बैठक के बाद टीएमए ने कहा कि निदेशक के सारे आरोप गलत हैं. और इस मामले में अब उनके खिलाफ एससी-एसटी थाने में शिकायत दर्ज कराई जाएगी. मुख्यमंत्री को भी मामले से अवगत कराया जाएगा.

बुधवार को रिम्स निदेशक द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति पर रिम्स अधीक्षक के भी हस्ताक्षर थे. हालांकि गुरुवार को उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि निदेशक द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति को व्यस्तता के कारण ठीक से नहीं पढ़ा पाया. और हस्ताक्षर कर दिया. यह उनकी गलती है. लेकिन विज्ञप्ति में जिस तरह की बातें लिखी हैं, उससे वे सहमत नही हैं.

रिपोर्ट- ओमप्रकाश

ये भी पढ़ें- विधायक ढुल्लू महतो के समर्थन धरना, समर्थक बोले- बदले की भावना से काम कर रही सराकर

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 27, 2020, 5:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर