कोरोना के खौफ के बीच झारखंड में मैट्रिक-इंटर परीक्षा की कॉपी जांच शुरू
Ranchi News in Hindi

कोरोना के खौफ के बीच झारखंड में मैट्रिक-इंटर परीक्षा की कॉपी जांच शुरू
झारखंड में मैट्रिक-इंटर परीक्षा की कॉपी जांच में नवनियुक्त शिक्षकों को भी लगाया गया है.

मैट्रिक की कॉपी की जांच के लिए राज्य भर में 36 व इंटर के लिए 32 मूल्यांकन केंद्र बनाये गये हैं. इंटर विज्ञान के लिए सात और कॉमर्स के लिए पांच व कला के लिए 20 मूल्यांकन केंद्र बनाये गये हैं.

  • Share this:
रांची. झारखंड में शुक्रवार से मैट्रिक (Matric) और इंटर (Inter) परीक्षाओं की कॉपी जांच (Evaluation) शुरू हो गई है. हालांकि कोरोनावायरस (Coronavirus) को देखते हुए झारखंड एकेडमिक कॉउंसिल (JAC) ने परीक्षकों को कुछ आवश्यक निर्देश दिये हैं. उन्हें कॉपी जांचने के दौरान एक-दूसरे से आवश्यक दूरी बनाए रखने को कहा गया है. राज्य में मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में 6.21 लाख परीक्षार्थी शामिल हुए. इंटर विज्ञान एवं वाणिज्य की कॉपी जांच शुरू हो गई है. हालांकि इंटर कला की कॉपियों की जांच 25 मार्च से होगी.

जांच के लिए 68 सेंटर बनाये गये 

मैट्रिक की कॉपी की जांच के लिए राज्य भर में 36 व इंटर के लिए 32 मूल्यांकन केंद्र बनाये गये हैं. इंटर विज्ञान के लिए सात और कॉमर्स के लिए पांच व कला के लिए 20 मूल्यांकन केंद्र बनाये गये हैं. राज्य के प्लस टू और हाईस्कूल में नवनियुक्त शिक्षकों को भी मूल्यांकन कार्य में लगाया गया है.



नवनियुक्त शिक्षकों को किया गया प्रशिक्षित
राज्य में शिक्षकों की कमी को देखते हुए झारखंड एकेडमिक कॉउंसिल ने नवनियुक्त शिक्षकों से मूल्यांकन कराने की अनुमति स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग से मांगी थी. स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग ने इस बाबत अनुमति दी. हालांकि विभाग के आदेश पर मूल्यांकन को लेकर नवनियुक्त शिक्षकों को पहले प्रशिक्षण दिया गया.

गौरतलब है कि राज्य के प्लस टू और हाईस्कूलों में तीन माह पूर्व शिक्षकों की नियुक्ति हुई है. वहीं, कॉपी जांच के लिए शिक्षकों को तीन साल का शैक्षणिक अनुभव होना अनिवार्य है. लेकिन राज्य में शिक्षकों की कमी को देखते हुए नये शिक्षकों को भी जांच में लगाया गया.

जनजातीय और क्षेत्रीय भाषा की कॉपी जांच एक मार्च से शुरू

मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट समय पर देने के लिए जनजातीय और क्षेत्रीय भाषाओं की कॉपी जांच एक मार्च से ही शुरू कर दिया गया. हर साल इन विषयों के मूल्यांकन में विलंब होता था. बता दें कि 11 फरवरी से शुरू होकर मैट्रिक परीक्षा 25 फरवरी और इंटर परीक्षा 2 मार्च तक चली थी.

इनपुट- भुवनकिशोर झा

ये भी पढ़ें- झारखंड में अबतक कोरोना की एंट्री नहीं, पीएम मोदी लेंगे ऐहतियाती कदमों की जानकारी 

 

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज